|

चीन विश्व पृथ्वी दिवस को कैसे देखता है?

Advertisements


बीजिंग, 22 अप्रैल (आईएएनएस)। हर साल 22 अप्रैल को विश्व पृथ्वी दिवस के रूप में मनाया जाता है, जो कि साल 1970 में आधुनिक पर्यावरण आंदोलन के जन्म की सालगिरह का प्रतीक है। यह जैव विविधता के नुकसान और बढ़ते प्रदूषण सहित पर्यावरणीय मुद्दों पर प्रकाश डालता है। इस साल विश्व पृथ्वी दिवस की थीम है हमारी पृथ्वी को पुनस्र्थापित करें।

बेशक, चीन दशकों से वायु प्रदूषण से जूझ रहा है, लेकिन चीनी लोगों को अब यह एहसास होने लगा है कि कई तरह से प्रदूषण उनकी दैनिक गतिविधियों के कारण होता है। जैसे-जैसे जागरूकता बढ़ती है, चीन में अधिक से अधिक लोग विश्व पृथ्वी दिवस मनाने में शामिल होते हैं, जो पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम है।

चूंकि चीन की अर्थव्यवस्था तेजी से विकसित हुई है, इसलिए चीनी सरकार पूरे देश में पर्यावरण संरक्षण को सक्रिय रूप से बढ़ावा दे रही है। विश्व पृथ्वी दिवस पर शैक्षिक कार्यक्रम आयोजित करने के लिए स्थानीय अधिकारी और विभिन्न संघ मिलकर काम करते हैं। चीन में पर्यावरण कार्यकर्ता हरित जीवन जीने के विचार को बढ़ावा देना पसंद करते हैं।

दरअसल, चीन के बड़े शहरों में लोग समझते हैं कि पर्यावरण प्रदूषण से लड़ना बहुत जरूरी है। सरकार शहरों को बेहतर, हरित स्थान बनाने की भी कोशिश कर रही है। वह अधिक पेड़ और फूल लगाकर, हरे-भरे स्थानों का निर्माण आदि पर जोर दे रही है।

वहीं, आम लोग भी सरकार का साथ देते हैं। चीनी लोग पहले से कहीं अधिक प्लास्टिक बैग और डिस्पोजेबल चॉपस्टिक का उपयोग करना कम कर दिया है, पब्लिक ट्रांसपोर्ट (मेट्रो, बस, शेयरिंग साइकिल आदि) का इस्तेमाल ज्यादा करने लगे हैं, और सही कूड़ेदान में सही कचरा डालते हैं। इतना ही नहीं, लगभग हर चीनी परिवार के पास अब किसी न किसी प्रकार का ऊर्जा-बचत करने वाला उपकरण है।

बच्चों को यह भी समझने की जरूरत है कि पर्यावरण की देखभाल करना उनकी जिम्मेदारी है। इसलिए हर साल चीन के पर्यावरण संगठन विश्व पृथ्वी दिवस पर सेमिनार और प्रदर्शनियों का आयोजन करते हैं। इन गतिविधियों के माध्यम से, लाखों चीनी बच्चों और किशोरों को पर्यावरण संरक्षण, पारिस्थितिकी और प्रकृति के बारे में अधिक जानने का मौका मिलता है।

जल और ऊर्जा संरक्षण पर्यावरण संरक्षण के लिए चीन की रणनीतिक योजना का एक हिस्सा है। इसलिए सरकार माता-पिता को भी बच्चों को यह बताने के लिए प्रोत्साहित करती है कि कम उम्र से ही पानी और ऊर्जा की बचत करना महत्वपूर्ण है।

इसके अलावा, पर्यावरण संरक्षण से संबंधित पाठ्यक्रम भी अब पूरे चीन में स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल हैं। ये कक्षाएं छात्रों को चीन में पर्यावरण की गुणवत्ता का एक सामान्य विचार प्राप्त करने में मदद करती हैं और उन्हें स्थानीय पर्यावरणीय गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

जाहिर है चीनी लोग पर्यावरण संरक्षण के महत्व के बारे में अधिक जागरूक हो रहे हैं। चूंकि चीन नए रुझानों को स्वीकार करने में बहुत तेज है, उम्मीद है कि पर्यावरण संरक्षण के विचार जल्द ही सभी के लिए नया आदर्श बन जाएंगे।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

–आईएएनएस

एएनएम


Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.