|

अफगानी महिला कार्यकर्ताओं के कथित अपहरण से बढ़ी चिंता

Advertisements


काबुल, 5 फरवरी (आईएएनएस)। अफगानिस्तान की कम से कम चार महिला कार्यकर्ताओं के कथित अपहरण ने वैश्विक चिंताओं को जन्म दे दिया है। वहीं, कई सार्वजनिक हस्तियों और संगठनों ने उनके ठिकाने के बारे में जानकारी की मांग की है।

टोलो न्यूज की रिपोर्ट में कहा गया है कि तमाना परयानी और परवाना इब्राहिमखिल दो हफ्ते पहले लापता हुई थी, जबकि जहरा मोहम्मदी और मर्सल अयार इस हफ्ते गायब हुई।

अफगान महिलाओं के लिए अमेरिका की विशेष दूत रीना अमीरी ने कहा कि अगर तालिबान सरकार दुनिया और अफगानिस्तान के अंदर के लोगों से वैधता चाहती है, तो उसे अफगानों के मानवाधिकारों का सम्मान करना चाहिए।

अमीरी ने ट्वीट कर कहा, ये अन्यायपूर्ण नजरबंदी बंद होनी चाहिए। अगर तालिबान अफगान लोगों और दुनिया से वैधता चाहते हैं, तो उन्हें अफगानों के मानवाधिकारों का सम्मान करना चाहिए – विशेष रूप से महिलाओं के लिए – अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सहित और इन महिलाओं, उनके रिश्तेदारों और अन्य कार्यकर्ताओं को तुरंत रिहा करना चाहिए।

कुछ महिला अधिकार कार्यकर्ताओं ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से हिरासत में ली गई महिला कार्यकर्ताओं की रिहाई के लिए गंभीर कदम उठाने का आह्वान किया है।

काबुल में हालिया विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाली महिला अधिकार कार्यकर्ता सोनिया ने टोलो न्यूज को बताया, यह इस बात से संबंधित है कि महिलाएं एक के बाद एक गायब हो रही हैं। इसकी कोई गारंटी नहीं है। कल, शायद मैं या कोई और जो अपने अधिकारों के लिए लड़ रहा है, उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

एक अन्य महिला अधिकार कार्यकर्ता बहारा ने कहा, अगर विरोध के लिए महिलाओं को हिरासत में लिया जा रहा है, तो यह अन्याय है क्योंकि विरोध करना हमारा अधिकार है और हम इसे जारी रखेंगे।

इस बीच, अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (यूएनएएमए) ने कहा कि उसने कथित अपहरणों पर आंतरिक मंत्रालय से तत्काल जानकारी मांगी है।

वठअटअ ने ट्विटर पर कहा, संयुक्त राष्ट्र सभी गायब महिला कार्यकर्ताओं और रिश्तेदारों को रिहा करने के लिए अपना आह्वान दोहराया है।

कुछ सोशल मीडिया यूजर्स ने हिरासत में ली गई महिलाओं की रिहाई का आह्वान करते हुए एक अभियान चलाया है।

एक प्रदर्शनकारी वहीदा ने कहा, जब देश में हर जगह सरकार की ताकतें हैं, तो यह विश्वास करना अस्वीकार्य है कि सरकार को महिलाओं के लापता होने की जानकारी नहीं है। सरकार को जवाबदेह होना चाहिए।

–आईएएनएस

एचके/एएनएम


Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.