| |

टेक्सास में बंधक बनाने वाले शख्स के पाकिस्तान लिंक की जांच जारी, तब्लीगी जमात का था समर्थक

Advertisements


नई दिल्ली, 17 जनवरी ( LHK MEDIA)। अमेरिका के टेक्सास में शनिवार को यहूदियों के एक पूजा स्थल पर लोगों को बंधक बनाने के बाद मारे गए संदिग्ध की पहचान एक ब्रिटिश नागरिक के रूप में हुई है।

डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका और ब्रिटेन में पुलिस यह पता लगाने का प्रयास कर रही है कि क्या वह किसी बड़े आतंकी सेल का हिस्सा था या उसने अकेले ही बंधक बनाने का प्लान बनाया था। यह सामने आया है कि ब्लैकबर्न, लंकाशायर के 44 वर्षीय मलिक फैसल अकरम को 2001 में वल्र्ड ट्रेड सेंटर को नष्ट करने वाले विमानों में से एक पर सवार होने की इच्छा व्यक्त करने के लिए एक खतरा करार दिया गया था।

डेली मेल की रिपोर्ट में कहा गया है कि अकरम के पाकिस्तान से संबंधों की भी जांच की जा रही है, क्योंकि वह उस देश में नियमित रूप से जाया करता था, जहां उसके पिता का जन्म हुआ था। वह कथित तौर पर रूढ़िवादी तब्लीगी जमात समूह का समर्थक था, जिसे इस्लाम को कथित शुद्ध करने के लिए स्थापित किया गया है। हालांकि यह एक आतंकवादी समूह होने से इनकार करता है – लेकिन इसके सदस्यों को सऊदी अरब से प्रतिबंधित कर दिया गया है, क्योंकि संगठन को खाड़ी राष्ट्र द्वारा आतंकवाद के द्वारों में से एक करार दिया गया है।

आतंकवादी संदिग्ध के लिए ब्लैकबर्न की एक मजिस्ट्रेट अदालत में एक दुर्लभ बहिष्करण आदेश दिया गया था। 9/11 हमले के कुछ ही दिनों बाद उस संबंध में बेतुका बयान देने के बाद यह कार्रवाई की गई थी, जिसमें 2,750 से अधिक लोगों की जान गई थी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि यह भी एक बड़ा सवाल है कि एक महत्वपूर्ण आपराधिक रिकॉर्ड के साथ दो हफ्ते पहले वह संयुक्त राज्य अमेरिका में आखिर घुसने में कैसे कामयाब रहा।

उसने एफबीआई एजेंटों से बात करते हुए, जेल में बंद महिला आतंकवादी आफिया सिद्दीकी – जिसे लेडी अल कायदा के नाम से जाना जाता है – की रिहाई और उसे उपासना स्थल पर लाने की मांग की थी, ताकि वे दोनों एक साथ मर सकें।

उसने हमले के दौरान उसे अपनी बहन के रूप में संदर्भित किया, लेकिन उनका का आपस में कोई संबंध नहीं है। महिला अपराधी को कोलीविल से करीब 20 मील दूर एक जेल में रखा गया है।

एक बंधक को रिहा करने के लिए सहमत होने के बाद, दो और बंधकों को एक साइड के दरवाजे से बाहर भागते हुए देखा गया था, जिसका पीछा अकरम ने एक पिस्तौल लहराते हुए किया। इसके तुरंत बाद, एक एफबीआई बचाव दल ने इमारत पर धावा बोल दिया और अकरम को बाद में शनिवार रात करीब 10 बजे गोली मारकर ढेर कर दिया गया।

— LHK MEDIA

एकेके/आरजेएस


Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.