दूर करेंगे देसी लड्डू ये बीमारियाँ, जाने आप अभी

Advertisements

लाइव हिंदी खबर (हेल्थ कार्नर ) :-  घरों में पारंपरिक रूप से बनने वाले लड्डू आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर हैं। ये जायके के साथ सेहतमंद बनाए रखते हैं। मौसम इन चीजों के लिए सही माना गया है क्योंकि शीत ऋतु में हमारा पाचनतंत्र इन हर्बल लड्डुओं के पौष्टिक तत्त्वों को पूरे शरीर में पहुंचाने का काम करता है।

दूर करेंगे देसी लड्डू ये बीमारियाँ, जाने आप अभी - LIVE HINDI KHABAR

पाचनतंत्र व दिमाग के लिए:

गेहूं का आटा, देसी घी, ग्वारपाठा (एलोवेरा) या गोंद, अजवाइन, कालीमिर्च, अश्वगंधा, हल्दी, मुलैठी, पीपल, सौंफ व बूरा से तैयार  ग्वारपाठे या गोंद के लड्डू पाचनतंत्र, दिमाग व हड्डियों के लिए फायदेमंद हैं।

वृद्धजनों के लिए:

दानामेथी, गेहूं का आटा, अश्वगंधा, देसी घी, हल्दी, अजवाइन, मुलैठी, ग्वारपाठा, पीपल, सौंफ और बूरा से बने  दानामेथी के लड्डू सर्दियों में बुजुर्गों के लिए लाभदायक हैं। इनसे हड्डियां मजबूत होती हैं, जोड़ों के दर्द, शारीरिक कमजोरी, पाचनतंत्र व पेट संबंधी दिक्कतें दूर होती हैं।

Navratri Vrat Diet eat Singhade ke aate ke laddu to get rid of weakness - Navratri Vrat Diet : नवरात्रि व्रत में कमजोरी दूर करने के लिए खाएं सिंघाड़े के लड्डू

महिलाओं के लिए:

गेहूं का आटा, देसी घी, सुपारी, शतावरी, कमरकस, गोंद, लोध्र, लाजवन्ती, जायफल, जावित्री, सौंठ, बूरा, बादाम, खरबूजे की गिरि और मखाना को मिलाकर तैयार जापे के लड्डू प्रसव के बाद महिला को 40 दिनों तक शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए देते  हैं। गर्म दूध के साथ एक लड्डू सुबह-शाम लें। जिनका सर्जरी या जटिलता से प्रसव हुआ हो उन्हें सर्जरी के टांके ठीक होने के बाद ही देते हैं।

वजन रखे नियंत्रित:

अलसी बीज, गेहूं का आटा, काली मिर्च, देसी घी, सौंफ, लौंग, जायफल, जावित्री,  पीपल व बूरा से तैयार अलसी के लड्डू हृदय-जोड़ों की सेहत के साथ वजन नियंत्रित व शरीर को मजबूती देते हैं।

पोषक तत्त्वों की पूर्ति करे :

गेहूं आटा, देसी घी, मूसली-अश्वगंधा, बादाम, खरबूजे की गिरि, खोपरा, जावित्री, जायफल, इलायची, लौंग, दालचीनी व बूरा से बने मूसली-अश्वगंधा के लड्डू शरीर को कैल्शियम, विटामिन तत्त्व देकर मजबूत करते हैं।

ऐसे लें: एक-एक लड्डू सुबह-शाम दूध के साथ लें।

आयुर्वेदिक लड्डू बनाने के लिए जरूरी चीजें जड़ी-बूटियों की दुकान से खरीद सकते हैं। तुरंत खाए जाने वाले लड्डुओं को स्टोर करने के लिए फूडग्रेड का अच्छा प्लास्टिक कंटेनर, स्टील या कांच का बर्तन प्रयोग करें। इन्हें फ्रिज के बजाय खुली व हवादार जगह पर रखें।

शरीर की मजबूती के लिए

बच्चों के मानसिक-शारीरिक विकास के लिए कौंच के लड्डू मददगार हैं। ये लड्डू शरीर में पोषक तत्त्वों की पूर्ति करते हैं। सुबह-शाम रोजाना दूध के साथ एक-एक लड्डू ले सकते हैं।
ऐसे बनाएं: गेहूं का आटा, देसी घी, कौंच बीज, अश्वगंधा, कालीमिर्च, लौंग, जावित्री, जायफल, पीपल व बूरा मिलाकर बनाएं।
ये लड्डू शरीर को पोषण देते हैं। ग्वारपाठे के लड्डू जल्दी खराब हो सकते हैं, सीमित मात्रा में बनाएं। इन्हें खाने के दौरान खट्टी चीजों से परहेज करें या कम खाएं वर्ना इनका पूरा लाभ नहीं मिलेगा।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.