आपकी इस समस्या को जड से खत्म कर सकती हैं रोटियां, बस मालूम होना चाहिये ये तरीका

लाइव हिंदी खबर :- बाहर भले ही हम कितनी ही चीजें क्यों न खा लें लेकिन घर के बने खाने का स्वाद कुछ और ही होता है। हमारी जेब के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए भी घर में बने हुए भोजन को उत्तम माना जाता है। हालांकि कभी-कभार सावधानी और सवच्छता से बनाए गए इस खाने को खाकर भी हमें स्वास्थ्य संबंधी कुछ शिकायतें हो जाती हैं। इनमें एसिडिटी सबसे कॉमन है। आजकल वयस्क से लेकर नौजवान तक एसिडिटी और गैस की समस्या से परेशान हैं। इतना ख्याल रखने के बावजूद भी अकसर लोग इसकी चपेट में आ जाते हैं।

Roti ke Totke: रोटी का ये सिर्फ एक टोटका ही बदल देगा आपकी जिंदगी, बस इस बात का रखें ख्याल - Roti ke totke use these roti ke totke and upay and get relief from all problems - India.com

आखिर ऐसा क्या करें कि गैस और एसिडिटी की परेशानी से हमें हमेशा के लिए मुक्ति मिल जाए? आज हम आपको एक बहुत ही सरल उपाय के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे अपनाकर इस परेशानी से पीछा छुड़ाया जा सकता है। रोटियां हम सभी के घर में बनती है। ऐसे में अगर आपको गैस या एसिडिटी की समस्या है तो, आटे को गूंथने समय उसमें थोड़ा सा ओट्स मिला दें।

डायबिटीज से ब्लड प्रेशर तक, बासी रोटी खाने से होते हैं कई फायदे - these are the benefits of eating stale chapati tpra - AajTak

सिर्फ इस छोटे से उपाय को अपनाकर आप इस बड़ी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। इसके बाद शाम को अगर खाना खाने के बाद थोड़ा सा टहल लिए तो इससे गैस शरीर से पूरी तरह रिलीज हो जाएगी। ओट्स को आटे में मिलाते ही, रोटियां काफी स्वादिष्ट हो जाती हैं। ओट्स मिलाए आटे की रोटी खाने से आपको कच्ची डकार और कब्ज की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

Effective Totke Of Roti, It Will Shine Your Luck And Make You Prospero - रोटी का ये आसान-सा टोटका दिलाएगा आपको राहु दोष से छुटकारा, ऐसे करें प्रयोग | Patrika News

जैसा कि हम जानते हैं कि ओट्स में फाइबर्स की प्रचुरता होती है और इसके साथ ही इसमें एंटी-आॅक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है। बता दें, ओट्स में बीटा ग्लुकेन नाम का सॉल्युबल फाइबर होता है जो शरीर में कॉलेस्ट्रॉल और शुगर के लेवल को कम करता है। इसे खाने से पेट काफी देर तक भरा रहता है और साथ ही ये हेल्दी गट बेक्टीरिया को बढ़ाता है।

ओट्स टोटल और एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल को कम करता है जिससे दिल की बीमारियों की संभावनाएं काफी हद तक कम हो जाती है। ओट्स का बीटा ग्लुकेन सॉल्युबल फाइबर, इन्सुलिन सेंसेटिविटी को बढ़ाता है जिससे शुगर लेवल कम होता है। दैनिक खान-पान में ओट्स को शामिल करने से हम और भी कई कठिन शारीरिक समस्याओं से मुक्ति पा सकते हैं और स्वस्थ तरीके से अपनी जिंदगी जी सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *