चीनी और रूसी प्रधानमंत्रियों की 26वीं नियमित वार्ता आयोजित


बीजिंग, 1 दिसम्बर (आईएएनएस)। चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने 30 नवंबर को पेइचिंग में जन बृहद भवन में रूसी प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्तीन के साथ संयुक्त रूप से चीनी और रूसी प्रधानमंत्रियों की 26वीं नियमित वार्ता की अध्यक्षता की। यह वार्ता वीडियो के माध्यम से आयोजित हुई।

ली खछ्यांग ने कहा कि, चीन और रूस एक-दूसरे के सबसे बड़े पड़ोसी और एक-दूसरे के वैश्विक साझेदार हैं। चीन रूस के साथ संबंधों के विकास को उच्च महत्व देता है। वर्तमान में कोविड-19 महामारी की स्थिति दुनिया में फिर भी जारी है, वैश्विक अर्थतंत्र मुश्किल से बहाल हो रहा है और अंतरराष्ट्रीय स्थिति में अनिश्चितताएं बढ़ रही हैं। चीन और रूस प्रमुख वैश्विक अर्थव्यवस्थाएं और उभरते बाजार वाले देश हैं। दोनों पक्ष बहुपक्षवाद का पालन करते हैं, और संयुक्त राष्ट्र के कोर वाली अंतरराष्ट्रीय प्रणाली और अंतरराष्ट्रीय कानून पर आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बनाए रखने में दोनों देशों के बीच रणनीतिक आम सहमति मौजूद है। चीन रूस के साथ मिलकर संपर्क और समन्वय मजबूत करते हुए सहयोग की निहित शक्ति को प्रेरित करके सहयोग के स्तर को उन्नत करना चाहता है।

ली खछ्यांग ने यह भी कहा कि, दोनों देशों को 2022 और 2023 दोनों वर्षों में आयोजित होने वाले चीन-रूस खेल आदान-प्रदान वर्ष के मौके का लाभ उठाते हुए शिक्षा, संस्कृति, युवा, स्वास्थ्य और खेल आदि क्षेत्रों में सहयोग मजबूत करना चाहिए। महामारी की रोकथाम और नियंत्रण के सामान्यीकरण की शर्तों के तहत ऑनलाइन और ऑफलाइन के संयोजन वाले अभिनव तरीके से पारस्परिक आदान-प्रदान और सहयोग खोजना चाहिए, ताकि दोनों देशों के बीच मित्रता के लिए जनमत की नींव को मजबूत किया जा सके।

वार्ता में मिशुस्तीन ने कहा कि, नए युग में रूस और चीन के बीच सहयोग की व्यापक रणनीतिक साझेदारी इतिहास में उच्चतम स्तर पर है और तेजी से विकसित हो रही है। रूस चीन के साथ मिलकर दोनों राष्ट्राध्यक्षों द्वारा बनी आम सहमतियों का कार्यान्वयन करना चाहता है, महामारी के खिलाफ लड़ाई, व्यापार, निवेश, वित्त, ऊर्जा, कृषि, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, विमानन, एयरोस्पेस, मानविकी आदि क्षेत्रों में सहयोग को गहराना चाहता है। यूरेशियन आर्थिक गठबंधन और बेल्ट एंड रोड के बीच डॉकिंग को मजबूत करना चाहता है, दोनों देशों के बीच पारंपरिक दोस्ती को मजबूत करना चाहता है, ताकि रूस-चीन के बीच सर्वांगीण सहयोग में लगातार नई प्रेरित शक्ति संचार हो सके। दोनों पक्षों को आपसी सम्मान, पारस्परिक विश्वास, समानता और आपसी लाभ के आधार पर बाहरी दबावों और चुनौतियों का संयुक्त रूप से सामना करना चाहिए और साझा विकास हासिल करने के लिए हाथ मिलाकर काम करना चाहिए। रूस चीन द्वारा पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक खेलों के आयोजन का समर्थन करता है।

नियमित वार्ता में दोनों प्रधानमंत्रियों ने संयुक्त रूप से चीनी और रूसी प्रधानमंत्रियों की 26वीं नियमित वार्ता की संयुक्त विज्ञप्ति और क्षेत्रीय आर्थिक सहयोग, डिजिटल अर्थव्यवस्था, सीमा शुल्क आदि क्षेत्रों में सहयोग दस्तावेजों के पारित होने की घोषणा की।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

–आईएएनएस

एएनएम

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.