इस जगह भगवान को प्रसाद में चढ़ाई गयी थी औषधियां,जरूर जाने

Advertisements

 लाइव हिंदी खबर :-स्नान यात्रा के दौरान लू लगने से बीमार भगवान जगन्नाथ स्वामी का प्रतिदिन औषधियों से इलाज किया जा रहा है। वैद्य उन्हें तरह-तरह की दवा दे रहे हैं। श्रद्धालुओं के लिए मंदिर बंद होने के बाद भी यहां प्रतिदिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु भगवान का हालचाल जानने के लिए मंदिर पहुंच रहे हैं।

गौरतलब है कि पन्ना का रथ यात्रा महोत्सव प्रदेश में सबसे भव्य तरीके से मनाया जाता है। इसके लिए अभी से तैयारियां तेज हो गई हैं। फिलहाल भगवान को बीमारी से उबारन के लिए दोनो टाइम भगवान को औषधियां दी जा रही हैं।
वहीं दूसरी ओर कलेक्ट्रेट सभागार आयोजित बैठक में रथयात्रा महोत्सव की तैयारियों की समीक्षा की गई। बैठक में कलेक्टर शिवनारायण सिंह चौहान ने कहा कि रथयात्रा महोत्सव परंपरागत उल्लास के साथ मनाया जाएगा। भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा धूमधाम से निकाली जाएगी। इसके लिए सभी आवश्यक प्रबंध किए जा रहे हैं। तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

परंपराओं पर रहेगा विशेष ध्यान

रथयात्रा महोत्सव के प्रबंधों में परम्परा का विशेष ध्यान रखा जाएगा। रथयात्रा के मार्ग तथा रथ के विश्राम स्थलों पर पेयजल एवं प्रकाश की उचित व्यवस्था की जाएगी। बैठक में रथयात्रा प्रबंधों की बिन्दुवार समीक्षा की गई। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि रथयात्रा जिले की महत्वपूर्ण परंपरा है। इसके आयोजन में होने वाले व्यय को जनसहयोग से एकत्रित किया जाए।

अन्य मंदिरों से भी लेंगे सहयोग

जगदीश स्वामी मंदिर की आय कम होने के कारण अन्य मंदिरों से भी रथयात्रा के लिए सहयोग लिया जाए। रथयात्रा के दौरान रथों में केवल शासन द्वारा नियुक्त पुजारी ही बैठेंगे। मुख्य रथ में जगदीश स्वामी मंदिर के पुजारी तथा अन्य रथों में किशोरजी मंदिर एवं बल्देव मंदिर के पुजारी बैठेंगे।इनमें भगवान के प्रसाद का वितरण करने के लिए एक व्यक्ति अलग से बैठाया जा सकता है। इसमें रथों में सुधार,भगवान के वस्त्र, मंदिरों में प्रकाश, रथों की सजावट, बैंड-बाजे, आतिशबाजी, महा प्रसाद व भंडारे का व्यय शामिल है। उन्होंने बताया कि सभी प्रमुख स्थानों पर पर्याप्त पुलिस बल तैनात रहेगा।

रथयात्रा के समय आकस्मिक उपचार के लिए एम्बुलेंस एवं आग से निपटने के लिए फायर ब्रिगेड तैनात रहेगी। रथयात्रा के लिए सड़क सुधार, पेयजल व्यवस्था, प्रकाश व्यवस्था, साफ -सफाई आदि की उचित व्यवस्था संबंधित विभाग करेंगे।  जिपं अध्यक्ष रविराज सिंह यादव ने रथयात्रा महोत्सव को मध्य प्रदेश के सांस्कृति विभाग कार्यक्रमों शामिल कराने तथा इसके आयोजन के लिए आवश्यक बजट की मांग का सुझाव दिया। मंदिरों की परिसंपत्ति की सुरक्षा व आय बढाने के संबंध में सुझाव दिए गए।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.