पाथवेज स्कूल ने शहर की वायु गुणवत्ता में सुधार के साथ अपने कैंपस को फिर से खोला


नोएडा/गुरुग्राम, 1 दिसम्बर (आईएएनएस)। शहर की वायु गुणवत्ता में सुधार के साथ पाथवेज ग्रुप ऑफ स्कूल्स ने छात्रों के लिए अपना कैंपस (परिसर) फिर से खोल दिया है।

छात्रों, शिक्षकों और अन्य स्टाफ सदस्यों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए, जो हमेशा स्कूल की प्राथमिकताओं में से एक रहा है, संस्थान ने अपने परिसर और आसपास ताजी और स्वच्छ हवा सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण उपाय किए हैं।

पाथवेज स्कूल ने अपने परिसर में स्वस्थ वायु गुणवत्ता बनाए रखने के लिए एक उन्नत केंद्रीय वातानुकूलन प्रणाली (एडवांस्ड सेंट्रल एयर कंडिशनिंग सिस्टम) स्थापित की है। ट्रीटेड फ्रेश एयर (टीएफए) हैंडलिंग यूनिट्स के माध्यम से इमारत के अंदर ताजी हवा को लगातार पंप किया जाता है।

टीएफए स्मार्ट फिल्टर से संचालित होते हैं, जो बाहरी वायुमंडलीय प्रदूषण को रोकते हैं और इमारतों में प्रवेश करने से पहले हवा को साफ करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, स्कूल में चक्र (सायकल) को पूरा करने के लिए छत के स्तर के साथ वेंटिलेशन के साथ सेंट्रल एट्रीअम है। इसलिए, इनडोर क्षेत्रों में घूमने वाली हवा को ताजी हवा में फिल्टर किया जाता है, जो लगातार वातावरण को शुद्ध वायु के साथ हवादार बनाए रखता है। यह पूरी प्रक्रिया इनडोर वायु गुणवत्ता को ताजा और स्वस्थ रखती है।

ट्रीटेड फ्रेश एयर (टीएफए) के अलावा, स्कूल का हरित परिसर प्रदूषकों के प्रभाव को कम करने में मदद करता है। विशाल भूमि पर निर्मित संस्था (10 एकड़ पर पीएसजी और पीएसएन, 36 एकड़ पर पीडब्लूएस) के पास लगभग 18-20 प्रतिशत भूमि में ही इमारतें या कंक्रीट के ढांचे हैं। इसके परिसर के बाकी हिस्सों में खुले खेल के मैदान और बड़ा हरित क्षेत्र शामिल है। संस्थान को बहुत जरूरी हरित आवरण प्रदान करने के लिए स्कूल ने अपने खुले क्षेत्र में सोच-समझकर और रणनीतिक रूप से विभिन्न प्रजातियों के हजारों पेड़ लगाए हैं। इसकी चारदीवारी के साथ भी घने पेड़-पौधे हैं, जिसमें मुख्य रूप से ऐसे पेड़ शामिल हैं, जो लंबे और घने होते हैं, जो स्कूल को बेहतर छाया भी प्रदान करते हैं।

इससे परिसर में प्रवेश करने वाली कोई भी हवा प्राकृतिक रूप से फिल्टर हो जाती है। इसके अलावा, स्कूल ने घने वृक्षारोपण के साथ सभी भवनों की परिधि को सावधानीपूर्वक लैंडस्केप किया है, जो गर्मी को कम करता है और संरचनाओं या बुनियादी ढांचे को ठंडा रखता है। इन पेड़ों को नियमित रूप से पानी देने से वाष्पीकरण होता है, जो तापमान को कम करता है, अपेक्षाकृत ठंडा वातावरण बनाता है।

संस्थान को फिर से खोलने के स्कूल के फैसले पर टिप्पणी करते हुए, पाथवेज स्कूल के सह-संस्थापक प्रशांत जैन ने कहा, पाथवेज हमेशा अपनी बिरादरी (छात्र एवं अन्य स्टाफ) के लिए सुरक्षा, स्वास्थ्य और स्वच्छता सुनिश्चित करने में लचीला और चुस्त रहा है। स्कूल सबसे आधुनिक एचवीएसी सिस्टम से लैस है, जो इमारतों में प्रवेश करने वाली हवा को फिल्टर करता है और इस प्रकार लगातार एक स्वस्थ एक्यूआई बनाए रखता है, जिसकी नियमित अंतराल पर निगरानी की जाती है। हम अपने छात्रों और उनके परिवारों द्वारा हमें दिखाए गए समर्थन और विश्वास के लिए बहुत आभारी हैं। हमने छात्रों को स्वच्छ और सुरक्षित अध्ययन स्थान प्रदान करने के लिए सभी आवश्यक उपायों को शामिल किया है। इसके अलावा, हमने नाजुक श्वसन प्रणाली (जिन्हें सांस संबंधी किसी भी प्रकार की दिक्कत हो) वाले छात्रों को अपने विवेक पर शारीरिक या वर्चुअल कक्षाओं में भाग लेने की अनुमति देने का प्रावधान भी पेश किया है। शारीरिक कक्षाओं में भाग लेने वाले छात्रों के लिए, फेस मास्क का उपयोग करना अनिवार्य है और वर्तमान में मौजूद कोविड-19 के साथ-साथ वायु प्रदूषण के खिलाफ नियमित सुरक्षा सावधानियों का पालन करना अनिवार्य है।

स्कूल के समय पर अपडेटिड नियमों, मुस्तैदी और लचीलेपन के बारे में अपने अनुभव को साझा करते हुए, स्मिता आनंद, एक परिजन, जिनके तीन बच्चे पाथवेज स्कूल में पढ़ रहे हैं, उन्होंने कहा, स्कूल के अधिकारी इसकी इनडोर वायु गुणवत्ता के उपायों को शामिल करने में बहुत ही संवेदनशील और विचारशील रहे हैं, जो मेरे लिए एक बड़ी राहत है, यह जानकर कि एनसीआर में वायु गुणवत्ता खतरनाक स्तर पर पहुंच गई है। स्कूल हमेशा अपने संचार में त्वरित और पारदर्शी रहा है क्योंकि हमें स्कूल के खुलने (ओपनिंग) के संबंध में मेल अच्छी तरह से प्राप्त हुआ था। इसके अलावा, स्कूल ने मेरे जैसे परिजनों को बच्चों के अकादमिक प्रदर्शन से मुक्त करते हुए, व्यक्तिगत रूप से ऑनलाइन कक्षाओं में एक सहज और प्रभावी परिवर्तन किया। स्कूल की सक्रियता ने हम में बहुत विश्वास पैदा किया है कि हमारे बच्चे सक्षम हाथों में हैं।

स्कूल ने गलियारों (कॉरिडोर्स) के साथ इमारतों के अंदर भी पौधे और फूलों की सुंदर क्यारियों को सजाया है। इन पौधों को सावधानीपूर्वक चुना जाता है, जो कि ऑक्सीजन को अवशोषित करने और ऑक्सीजन संचारित करने की उनकी क्षमता के आधार पर होता है। ये पौधे न केवल स्कूल के माहौल की शांति और सुंदरता को जोड़ने में मदद करते हैं, बल्कि इसकी इनडोर वायु गुणवत्ता को भी बनाए रखते हैं।

–आईएएनएस

एकेके/आरजेएस

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.