पंडितों के विरोध के आगे झुकी उत्तराखंड सरकार

लाइव हिंदी खबर :- नवगठित उत्तराखंड कार्यकारी बोर्ड को भंग करने के लिए देवस्थानम वहां शासन करेगा बीजेपी सरकार ने फैसला किया है। ऐसा पंडितों और तीर्थ पुजारियों के शुरू से ही तीखे विरोध के कारण माना जाता है। उत्तर प्रदेश से अलग हुए राज्य उत्तराखंड में कई अहम तीर्थ स्थित हैं। चार स्थल गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ हैं।

इन सहित सभी मंदिर कई वर्षों तक इसके पंडितों के अधीन रहे। देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड 2019 में उनमें से सबसे महत्वपूर्ण का प्रबंधन करने के कारण इसमें कई शिकायतें उत्पन्न हुई हैं बी जे पी सरकार द्वारा स्थापित। इस प्रकार क्रोधित पंडितों और तीर्थ पुजारियों ने एक नया संगठन बनाया बी जे पी राज्य का विरोध करने लगे। यह भी घोषणा की गई कि भाजपा संगठन की ओर से अगले एक या दो महीने में आगामी विधानसभा चुनाव लड़ेगी।

कई वर्षों से उन्हें जो लाभ मिल रहा है, उसका लाभ उठाने के लिए बी जे पी सरकार कोशिश कर रही है उत्तराखंड हाईकोर्ट में पंडितों ने मामला दर्ज कराया है। उत्तराखंड में लगभग 15,000 पंडित वर्तमान में तीव्र विरोध का सामना कर रहे हैं बी जे पी तरना सरकार के खिलाफ देहरादून में बैठ गए।

इसका चौथा दिन कल उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के साथ था पुष्कर सिंह तामी एक महत्वपूर्ण घोषणा जारी की। इस में बीजेपी उन्होंने कहा कि सरकार देवस्थानम कार्यकारी बोर्ड को भंग करने के लिए एक विधेयक पारित करने जा रही है।उत्तराखंड सरकार ने ऐसा ही किया है, क्योंकि उसने केंद्र सरकार से तीन कृषि कानून बिल वापस ले लिए हैं। कार्यान्वयन शीतकालीन सत्र के लिए निर्धारित है, जो कुछ दिनों में शुरू होता है।

मुख्यमंत्री तामी की घोषणा का स्वागत करने के लिए कल 15,000 पंडितों ने अपना धरना छोड़ दिया और अपने घरों को लौट गए। उन्होंने 5 नवंबर को केदारनाथ पहुंचे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ विरोध करने की भी योजना बनाई।उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा, ‘बोर्ड ने उत्तराखंड के विद्वानों और मौलवियों से सलाह मशविरा किया है।

सरकार ने बोर्ड को गलत पाए जाने पर रद्द करने का फैसला किया है। इसलिए हम प्रभावित विद्वानों और पुजारियों से क्षमा चाहते हैं।’ उसने कहा। बोर्ड का गठन भाजपा के पूर्व अध्यक्ष त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किया था। इसमें पंडितों और पुजारियों ने सरकार के सदस्य बनने के निमंत्रण को ठुकरा दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *