टीएमसी ने विपक्ष के संयुक्त मोर्चे से किया किनारा, अपनी राह चलना तय किया


नई दिल्ली, 30 नवंबर (आईएएनएस)। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने संयुक्त विपक्ष की रणनीति के लिए कांग्रेस की पहल के प्रति शत्रुतापूर्ण रवैया दिखाया है।

तृणमूल कांग्रेस ने लगातार दूसरी बार विपक्षी बैठक में भाग नहीं लिया, हालांकि अन्य 16 दलों ने भाग लिया।

राज्यसभा के 12 सांसदों का निलंबन रद्द करने की विपक्ष की अपील सभापति एम. वेंकैया नायडू द्वारा ठुकराए जाने के बाद विपक्ष ने मंगलवार को कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के नेतृत्व में सदन से बहिर्गमन का फैसला किया, लेकिन टीएमसी इससे पीछे हट गई। इसके सदस्यों लुइजि़न्हो फलेरियो ने जीरो आवर में भाग लिया, जैसा कि डेरेक ओब्रायन ने किया था। हालांकि ओब्रायन ने निलंबन पर बात की। उन्होंने कहा कि विपक्षी सांसदों की जगह ट्रेजरी बेंच के 80 सांसदों को निलंबित किया जाना चाहिए।

बाद में उन्होंने ट्वीट किया, कल 1 दिसंबर से सोमवार-शुक्रवार सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक राज्यसभा से निलंबित 12 विपक्षी सांसद महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना पर बैठेंगे।

कांग्रेस लोकसभा में विरोध प्रदर्शन और सदन को ठप करने के दौरान विपक्ष को साथ लेने के लिए अतिरिक्त प्रयास कर रही है। मंगलवार की सुबह टीएमसी को छोड़कर बाकी विपक्षी दल इस मामले पर रणनीति बनाने के लिए खड़गे के कार्यालय में इकट्ठा हुए।

इस बीच, नायडू ने कहा, मैं विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे की 12 सांसदों का निलंबन रद्द करने की अपील पर विचार नहीं करने जा रहा हूं, क्योंकि निलंबित सांसदों ने माफी नहीं मांगी है और अपने व्यवहार को सही ठहरा रहे हैं। खड़गे ने नियम 256 के तहत यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि सांसदों का निलंबन नियमों के विपरीत है।

उन्होंने कहा, सदन के सदस्यों को पिछले सत्र में किए आचरण के कारण इस सत्र में निलंबित कर दिया गया है और यह सदन के नियमों के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि माफी मांगने का सवाल ही नहीं उठता।

जवाब में, सभापति ने कहा कि सदन ने एक प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है और घटना के दिन सभापति ने निलंबन के लिए सांसदों के नाम पटल पर रखे थे।

टीएमसी के डेरेक ओब्रायन ने अपने कृत्य को सही ठहराते हुए कहा कि सदस्यों को मानसून सत्र में इस तरह के व्यवहार का सहारा लेने के लिए मजबूर किया गया था, क्योंकि कुछ मुद्दों को बार-बार अनुरोध के बावजूद चर्चा के लिए नहीं लाया जा रहा था। उन्होंने जोर देकर कहा, 12 विपक्षी सांसदों को नहीं, बल्कि ट्रेजरी के 80 सांसदों को निलंबित किया जाना चाहिए।

उच्च सदन ने सोमवार को 11 अगस्त को मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने पर 12 सांसदों को पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया।

निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं।

निलंबित सांसद हैं – कांग्रेस के सैयद नसीर हुसैन, अखिलेश प्रसाद सिंह, फूलो देवी नेताम, छाया वर्मा, रिपुन बोरा और राजमणि पटेल, शिवसेना की प्रियंका चतुर्वेदी, अनिल देसाई, माकपा के एलाराम करीम, भाकपा के बिनॉय विश्वम, डोला सेन और तृणमूल की शांता छेत्री।

–आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Leave a Reply

Your email address will not be published.