आजमाए ये उपाय बढ़ती उम्र में चुस्त-दुरूस्त रहने के लिए, अभी पढ़े

Advertisements

लाइव हिंदी खबर (हेल्थ कार्नर ) :- आप अगर अपनी बढ़ती उम्र में चुस्त दुरूस्त रहना चाहते हैं ताे, अपने आहार में पर्याप्त प्रोटीन युक्त फूड्स का सेवन आपके लिए अच्छा रहेगा। हाल ही में हुए एक शाेध में इस बात का खुलासा हुआ कि खाने में प्रोटीन की मात्रा बढ़ाने से प्रौढ़ व्यक्तियों में दैनिक क्रियाकलापों के करने की क्षमता संरक्षित रखने और इसके साथ ही अक्षमता के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है।

क्या प्रोटीन से वज़न कम किया जा सकता है? - BBC News हिंदी

अध्ययन में बताया गया है कि ज्यादा प्रोटीन खाने से प्रौढ़ व्यक्तियों में अक्षमता के खतरे को कम किया जा सकता है, जो उन्हें दैनिक क्रियाकलापों व घरेलू गतिविधियों जैसे खुद से खाना, नहाना, कपड़े पहनना और सामाजिक गतिविधियों में हिस्सा लेने से रोकता है।

ब्रिटेन के न्यूकैस्टल विश्वविद्यालय के प्रमुख अध्ययनकर्ता नुनो मेंडोनका ने कहा, ”हमारी खोज उस मौजूदा सोच का समर्थन करती है, जिसमें प्रतिदिन प्रोटीन लेने से हमें सक्रिय रहते हैं और स्वस्थ तरीके से बूढ़े होते हैं।

अध्ययन के लिए उत्तर-पूर्व इंग्लैंड के 722 प्रतिभागियों पर रिसर्च किया गया, जिसमें 60 प्रतिशत महिलाएं थीं। यह अध्ययन अमेरिकन जेरीएट्रिक्स सोसायटी की पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

युवाओं की तुलना में कम प्रोटीन लेने वाले प्रौढ़ के खराब स्वास्थ्य की वजह से शारीरिक गतिविधि में कमी आती है और दांत व चेहरे में परिवर्तन होते हैं। अध्ययन के नतीजों से पता चला है कि जो ज्यादा प्रोटीन लेते हैं वे कम प्रोटीन लेने वाले लोगों की तुलना में कम अक्षम होते हैं।

Know About Body Heat Index - शरीर के हिसाब से बनाए डाइट प्लान, जानें ये खास बातें | Patrika News

अध्यनकर्ताओं ने सुझाव दिया है कि प्रौढ़ व्यक्तियों को बॉडी वेट के प्रत्येक पाउंड के लिए 0.8 से 1 ग्राम प्रोटीन का सेवन करना चाहिए।जाे लाेग अधिक शारीरिक श्रम करते हैं वे प्रत्येक पाउंड के लिए 1 से 1.3 ग्राम प्रोटीन का सेवन कर सकते हैं।

प्राेटिन के मुख्य साेर्स
शाकाहारी स्रोतों में चना, मटर, मूंग, मसूर, उड़द, सोयाबीन, राजमा, लोभिया,दूध, दही, छाछ, गेहूँ, मक्का प्रमुख हैं। मांस, मछली, अंडा, एवं यकृत प्रोटीन के अच्छे मांसाहारी स्रोत हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.