जाने इस बीज के बारे में जो पाचन ठीक कर शरीर की ताकत बढ़ाते हैं, अभी पढ़े

लाइव हिंदी खबर (हेल्थ कार्नर ) :- Healthy Seeds: हम अक्सर फल व सब्जियाें का उपयाेग करने में उनके बीज निकाल कर फेंक देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि फल व सब्जियाें के बीज भी उन्हीं की तरह पाैष्टिक तत्वाें से भरपूर हाेते हैं। इनका सेवन हमें सेहतमंद बनाएं रखने में मदद कर सकते हैंं। फल व सब्जियाें के बीज विटामिन सी, विटामिन र्इ, विटामिन के, फाइबर, पाेटेशियम, मैगनिशियम, काॅॅॅपर, आेमेगा फैटी 3 एसिड जैसे पाेषक तत्वाें से भरपूर हाेते हैं। आइए जानते हैं इनसे होने वाले सेहतभरे फायदों के बारे में:-

भारत के लोग कद्दू के बीज (Pumpkin seeds) के महत्व क्यों नहीं समझते? - Quora

आम : इसकी गुठली के अंदर पाए जाने वाले बीज से पेट संबंधी बीमारियां दूर होती हैं। इसके अलावा यह दस्त, बवासीर व मासिक धर्म के दौरान होने वाले अधिक रक्तस्राव को रोकता है।
प्रयोग : बीजों को सुखाकर इसका पाउडर बना लें। इसे एक से डेढ़ चम्मच सुबह-शाम पानी के साथ लें। लेकिन जिन्हें कब्ज की शिकायत हो वे परहेज करें।

इमली : इसके बीज ताकतवर होते हैं जो श्वेतप्रदर (वाइट डिस्चार्ज) व माहवारी में अत्यधिक रक्तस्राव की समस्या में भी ये बीज लाभकारी हैं।
प्रयोग : बीज को पीसकर उसका पाउडर बना लें व 3-5 ग्राम चूर्ण पानी के साथ सुबह-शाम लें। कब्ज होने पर इस्तेमाल न करें।

कटहल : इसके बीज पौष्टिक व वजन बढ़ाने में सहायक होते हैं।
प्रयोग : 5-6 बीजों को रात में पानी में भिगोकर सुबह खाली पेट चबाकर खाएं, इसे दूध के साथ भी ले सकते हैं। जिन्हें भूख कम लगती है या अपच की शिकायत हो वे इनका प्रयोग न करें क्योंकि ये भारी होते हैं।

कद्दू के बीज के फायदे और नुकसान - Pumpkin Seeds (Kaddu Ke Beej) Benefits And Side Effects In Hindi

तरबूज : इसके बीज ठंडे व पौष्टिक होते हैं। कमजोर लोग और गर्भवती महिलाएं जिनका वजन कम हो उनके लिए ये लाभकारी होते हैं।
प्रयोग : इन बीजों को छीलकर दो-दो चम्मच पानी या दूध के साथ लें। इन्हें ऐसे भी खाया जा सकता है। कब्ज होने पर सेवन न करें।

खरबूजा : जिन लोगों को पेशाब कम आने या जलन की शिकायत है, उनके लिए इसके बीज काफी लाभकारी होते हैं। ये बीज किडनी के रोगियों को भी लाभ पहुंचाते हैं।
प्रयोग विधि: इन्हें छीलकर दो चम्मच पानी और दूध के साथ या ऐसे भी खा सकते हैं। इसका इस्तेमाल मिठाई या नमकीन में मेवे के रूप में भी किया जा सकता है। जिन्हें बार-बार पेशाब आने की समस्या हो वे इनका सेवन न करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.