जाने कैसे खतरे में है पुरुषों की सेहत, जाने कैसे करें बचाव

Advertisements

लाइव हिंदी खबर (हेल्थ कार्नर ) :- : द लैंसेट ग्लोबल हेल्थ जर्नल में प्रकाशित एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है कि 4 पुरुषों में से एक, जो कि 25 प्रतिशत से अधिक है, एनीमिया से पीड़ित हैं। यह अध्ययन 15 से 54 के बीच की उम्र के 10,000 पुरुषों किया गया। यह परिणाम थोड़ा चौकाने वाला रहा क्योंकि अब तक खून की कमी का महिलाओं से संबंधति रोग माना जाता था। नए अध्ययन के मुताबिक अब पुरूषों को भी एनीमिया के प्रति सचेत रहने की जरूरत है।

Anemia: इस उम्र के लोगों को सबसे ज्‍यादा होता है एनीमिया, सबसे पहले दिखते हैं ये लक्षण... - Anemia causes symptoms treatment how to cure anemia patients in india - Latest News

एनीमिया क्या है ( What is Anemia )
एनीमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें रक्त में हीमोग्लोबिन का स्तर नीचे गिर जाता है, जिसकी वजह से लाल रक्त कोशिकाओं की ऑक्सीजन-वहन क्षमता कम हो जाती है। शरीर को ऊर्जा का उत्पादन करने और हर अंग के लिए नियमित मैटाबॉलिज्म बनाए रखने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है, जब आप एनेमिक होते हैं तो आपको हर समय कमजोरी व थकावट महसूस होती है।

एनेमिया के लक्षण ( Anemia symptoms )
शरीर में खून की कमी होने पर थकान और आलस्य, सांस की तकलीफ, चक्कर, घावों का धीमा उपचार, दृष्टि का मंद होना, कमजोर स्मृति, सिर दर्द, अनिद्रा, शरीर पर पीलापन,समय से पहले झुर्रियाँ, सुस्त और थकी-हारी आँखें, उंगलियों और पैर की उंगलियों में झुनझुनी, पिन और सुई की सनसनी और पैर में दर्द या एनजाइना का अनुभव हो सकता है।

what foods are good for anemia: Anemia diet: सीने में दर्द और और ठंडे हाथ-पैर हो सकते हैं एनीमिया के लक्षण, बचाव के लिए खाएं इस तरह की सब्जियां, फल और ड्राइ

एनेमिया के कारण ( Anemia Cause )
पर्याप्त मात्रा में आयरन न खाना ( iron deficiency ) सबसे बड़ा कारण है। इसके अलावा चोट लगने से खून की भारी कमी,रक्तस्राव बवासीर, अत्यधिक परहेज, अवसाद या काम के दबाव के कारण खाना नहीं खाना, आंत की समस्या, आंत में कीड़े की उपस्थिति, विटामिन बी 12 की कमी, विटामिन सी की कमी, कॉपर की कमी, संक्रमण और आनुवंशिक कारकों से एनेमिया हो सकता है।

हीमोग्लोबिन का स्तर एनीमिया का संकेत:
पुरुष: 13 से नीचे
महिला: 12 से नीचे
गर्भवती महिला: 11 से नीचे

खून की कमी दूर करने के लिए खाएं ये :-
– गहरे हरे रंग की पत्तेदार सब्जियाँ (फूलगोभी का साग, सरसों का साग, चौलई या अमरबेल, अजमोद, पुदीना)।
– सूखे बीन्स (विशेष रूप से सोया, ग्वारपाठा, किडनी बीन्स, बेसन भुना हुआ)।
– सूखे मेवे जैसे किशमिश, सूखे खुबानी और खजूर।
– फल जैसे प्रून, तरबूज,अंडे (विशेषकर अंडे की जर्दी),चिकन लीवर, रेड मीट, समुद्री भोजन।
– साबुत अनाज (बाजरा, एक प्रकार का अनाज) आयरन-फोर्टिफाइड अनाज

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.