जाने किस प्रकार आपको मोटापा व हृदय रोगों से बचाता लौकी का रस, अभी पढ़े

लाइव हिंदी खबर (हेल्थ कार्नर ) :-  इन दिनों शरीर की बढ़ती चर्बी और हृदय रोगों के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है। इसका कारण खानपान में हैल्दी चीजों का न लेना है। ऐसे में लौकी का रस या जूस शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाता है। विशेषज्ञों के मुताबिक यह शरीर में पानी की कमी पूरी करने के साथ पोषक तत्व की भी पूर्ति करता है।

Bottle Gourd Juice Keeps Away Obesity And Heart Diseases - मोटापा व हृदय रोगों से बचाता लौकी का रस | Patrika News

ऐसे करें तैयार
सबसे पहले लौकी को छीलकर धो लें। फिर उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें। अब एक ब्लेंडर में लौकी के टुकड़े डाल कर साथ में पुदीने की पत्तियां मिलाकर ब्लेंड करें। जब जूस बन जाए तब उसमें जीरा पाउडर, नमक और काली मिर्च पाउडर डालकर अच्छी तरह मिलाएं। अब बर्फ डालकर सर्व करें।

ये हैं फायदे

पाचनतंत्र दुरुस्त
लौकी में घुलनशील फाइबर अधिक पाया जाता है जो पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है। इसे नियमित तौर पर पीने से कब्ज ठीक होता है और एसिडिटी जैसी समस्या से छुटकारा मिलता है।

लिवर की सूजन घटती है
जो लोग ज्यादा तला-भुना या अनहेल्दी खाना खाते हैं या फिर अल्कोहल लेते हैंं उनके लिवर में जल्दी सूजन आ जाती है। ऐसे में अगर आप लौकी और अदरक का जूस पीते हैं तो इससे आराम मिलता है।

वजन रहता नियंत्रित
ऐसे लोग जो वजन घटाना चाहते हैं वे लौकी का जूस पी सकते हैं। लौकी का रस नियमित पीने से भूख नियंत्रित रहती है। इस कारण वजन नहीं बढ़ता। इसके अलावा इसमें कई जरूरी विटामिन और पोटैशियम व आयरन प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। अगर इसे सुबह पीया जाए तो अधिक फायदा होता है।

सिरदर्द और अपच से राहत
अक्सर शरीर का तापमान अधिक बढ़ जाने के कारण सिरदर्द और अपच की समस्या हो जाती है। ऐसे लोग लौकी का जूस अदरक के रस के साथ मिलाकर पिएंगे तो फायदा होगा। ध्यान रहे कि जूस एक साथ ना पीकर एक-एक सिप लेकर पीना ज्यादा फायदा देता है।

Know About The Benefits Of Gourd - जानिए लौकी से होने वाले फायदों के बारे में, एेसे करें इस्तेमाल | Patrika Newsबीपी कम होता
हाई ब्लड प्रेशर एक आम समस्या बन चुका है। लौकी के जूस में पोटैशियम अधिक पाया जाता है जो कि ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए जाना जाता है। इसलिए इसे पीने वालों को हृदय सम्बंधी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता। जूस के सेवन से पहले विशेषज्ञ से परामर्श अवश्य लेना भी उचित रहता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *