2021 ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज को ऋषभ पंत ने याद किया

Advertisements


नई दिल्ली, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। ऑस्ट्रेलिया के साथ 2021 की टेस्ट सीरीज को याद करते हुए दिल्ली कैपिटल्स (डीसी) के कप्तान ऋषभ पंत ने साझा किया कि कैसे वह अपने जीवन के सबसे खराब पड़ाव पर थे, जब उन्हें दो प्रारूपों से हटा दिया गया और उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

2016 में दिल्ली कैपिटल्स में शामिल हुए विकेटकीपर-बल्लेबाज ने कहा, मैं किसी से बात नहीं कर रहा था, यहां तक कि परिवार या दोस्तों से भी नहीं। मुझे अपनी जगह बनाने की जरूरत थी। मैं हर दिन अपना 200 प्रतिशत देना चाहता था।

पंत ने बताता है कि कैसे उन्हें खुद को साबित करना पड़ा और भारत के लिए दूसरे सर्वोच्च स्कोरर होने की प्रशंसा पर खरा उतरने के लिए कैसे ऑस्ट्रेलिया में कड़ी मेहनत की।

उन्होंने कहा, मैं सिर्फ अपने आप से कह रहा था, ऐसा करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। मुझे भारत को जीत दिलाना था।

लेकिन यह पंत के लिए एक के बाद एक चोट की श्रृंखला भी थी, क्योंकि गर्दन की चोट के कारण पहले अभ्यास मैच से बाहर बैठने के बाद, चौथे टेस्ट के तीसरे दिन बल्लेबाजी करते हुए उन्हें असहनीय कोहनी की चोट का सामना करना पड़ा था। पैट कमिंस, मिशेल स्टार्क और जोश हेजलवुड जैसे दिग्गज खिलाड़ियों के खिलाफ पंत पर प्रदर्शन करने का जबरदस्त दबाव था और वह अनिश्चित थे कि क्या वह दर्द से लड़ते हुए स्थिति को बदल पाएंगे।

लेकिन उन्होंने चौथे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की ऐतिहासिक जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो कि 32 वर्षों में गाबा में ऑस्ट्रेलिया की पहली हार थी।

आलोचनाओं से जूझने के बारे में बात करते हुए ऋषभ ने कहा, मेरे लिए अपने खेल पर ध्यान केंद्रित करने के अलावा और कुछ नहीं था।

मुंबई इंडियंस पर जीत के साथ सीजन की शुरुआत करने के बाद, ऋषभ पंत की अगुवाई वाली दिल्ली कैपिटल्स 7 अप्रैल को मुंबई में लखनऊ सुपर जायंट्स से भिड़ेगी।

–आईएएनएस

आरजे/एएनएम


Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.