पश्चिम बंगाल में 15 दिसंबर तक लागू रहेगा कोविड प्रतिबंध


कोलकाता, 1 दिसम्बर (आईएएनएस)। बांग्लादेश से राज्य की निकटता को ध्यान में रखते हुए पश्चिम बंगाल सरकार ने कहा कि कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच राज्य में मौजूदा कोविड प्रतिबंध 15 दिसंबर तक जारी रहेगी।

राज्य सरकार की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि मौजूदा कोविड प्रोटोकॉल को 15 दिसंबर तक बढ़ाया जाएगा। सरकार ने पुलिस प्रशासन से रात 11 बजे से सख्ती से रात का कर्फ्यू लगाने को भी कहा है। सुबह पांच बजे तक लोगों से कहा गया है कि इस दौरान जब तक कोई आपात स्थिति न हो, वे अपने घरों से बाहर न निकलें।

रात में मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर किसी भी तरह की आवाजाही की अनुमति नहीं होगी। इसके अलावा, राज्य सरकार ने सभी लोगों से कोविड वैरिएंट के प्रसार को रोकने के लिए मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील की है। हालांकि, सरकार, इस वर्तमान स्थिति में किसी भी प्रकार के लॉकडाउन के बारे में नहीं सोच रही है, लेकिन कार्यालयों को सभी कोविड दिशानिदेर्शो का सख्ती से पालन करने के लिए कहा गया है।

दुनिया के कई देशों में इस नए वैरिएंट के प्रसार के साथ, केंद्र ने पहले ही 12 देशों की पहचान की है। इस सूची में यूनाइटेड किंगडम, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, हांगकांग, सिंगापुर और इजराइल शामिल हैं। इन देशों में राज्य की सिंगापुर और बांग्लादेश के साथ सीधी उड़ान है।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार, राज्य को सिंगापुर से सीधी उड़ान मिल गई है, लेकिन यह प्रबंधनीय है क्योंकि यात्रियों को राज्य में प्रवेश करने से पहले चिकित्सा परीक्षणों से गुजरना होगा। राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, समस्या बांग्लादेश के साथ है क्योंकि बहुत से लोग अवैध रूप से सीमा पार करके भारत में प्रवेश करते हैं। इन लोगों पर प्रतिबंध लगाना लगभग असंभव है।

अधिकारी ने कहा कम से कम सात से आठ जिले बांग्लादेश की सीमा से सटे हुए हैं जिनमें उत्तर और दक्षिण 24 परगना, नदिया, मुर्शिदाबाद, कूचबिहार, मालदा और दक्षिण और उत्तरी दिनाजपुर जैसे जिले शामिल हैं। ऐसे कई क्षेत्र हैं जहां बाड़ पूरी तरह से नहीं लगाया गया हैं। इन क्षेत्रों में अवैध प्रवेश पर नजर रखना लगभग असंभव है। फिर भी, राज्य सरकार इन देशों से प्रवेश को प्रतिबंधित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है।

राज्य सरकार ने सिंगापुर और बांग्लादेश से आने वाले लोगों के लिए आरटीपीसीआर रिपोर्ट अनिवार्य कर दिया है। अधिकारी ने कहा, जब तक उन्हें आरटीपीसीआर रिपोर्ट नहीं मिलती है, उन्हें क्वारंटाइन में रहना होगा।

–आईएएनएस

एचएमए/आरजेएस

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.