आईसीसी टूर्नामेंटों में न्यूजीलैंड की चुनौती का सामना नहीं कर पा रहा है भारत

26



साउथम्पटन, 24 जून (आईएएनएस)। भारतीय क्रिकेट टीम पिछले कुछ वर्षो में आईसीसी के टूर्नामेंटों में न्यूजीलैंड टीम की चुनौती का सामना करने में विफल रही है।

भारतीय टीम को बुधवार को यहां विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) के फाइनल मुकाबले में न्यूजीलैंड के हाथों आठ विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन यह पहली बार नहीं है जब उसे कीवी टीम के हाथों आईसीसी टूर्नामेंट के मुकाबले में पराजय मिली है।

भारत ने आखिरी बार सौरभ गांगुली की कप्तानी में 2003 एकदिवसीय विश्व कप में न्यूजीलैंड को सात विकेट से मात दी थी। इसके बाद से अब तक न्यूजीलैंड ने भारत को टी 20 विश्व कप, वनडे विश्व कप और डब्ल्यूटीसी के मुकाबलों में हराया है।

न्यूजीलैंड ने 2007 टी20 विश्व कप के लीग मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए 190 रन बनाए थे जिसके जवाब में भारतीय टीम नौ विकेट पर 180 रन ही बना सकी थी और उसे 10 रन से हार का सामना करना पड़ा था।

इसके बाद 2016 टी20 विश्व कप में सुपर-10 मुकाबले में भारत ने न्यूजीलैंड को सात विकेट पर 126 रन पर ही रोका लेकिन कीवी टीम ने गेंदबाजों के दम पर भारतीय पारी 79 रन पर समेट दी और 47 रनों से जीत हासिल की।

भारत को 2019 वनडे विश्व कप के सेमीफाइनल में भी न्यूजीलैंड से हार का सामना करना पड़ा था और यह उसके लिए सबसे ज्यादा निराशाजनक हार रही थी।

इस मैच में न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए रॉस टेलर के 74 रन और कप्तान केन विलियम्सन के 67 रन की बदौलत 239 रन बनाए थे। यह मुकाबला भी बारिश के कारण प्रभावित रहा था और भारत ने रिजर्व डे के दिन बल्लेबाजी की थी और अपने पहले तीन विकेट महज पांच रन के अंदर गंवा दिए थे।

भारत की ओर से रवींद्र जडेजा ने 77 रन बनाकर कुछ उम्मीदें जगाई थीं लेकिन टीम इंडिया 221 रन बनाकर ऑलआउट हुई और उसे 18 रनों से हार का सामना कर विश्व कप से बाहर होना पड़ा था।

न्यूजीलैंड ने डब्ल्यूटीसी फाइनल से पहले 2020 में डब्ल्यूटीसी के अंडर खेली जाने वाली दो मैचों की टेस्ट सीरीज में भी भारत को हराया था।

इस तरह भारत को पिछले कुछ वर्षों में आईसीसी के टूर्नामेंटों में लगातार हार का सामना करना पड़ा है। न्यूजीलैंड ने इसके साथ ही भारत को लगातार छठी बार आईसीसी टूर्नामेंट के मुकाबले में हराया।

–आईएएनएस

एसकेबी/आरजेएस