दिल्ली: पेयजल के एकसमान वितरण का इंतजाम और दूषित पानी की शिकायत दूर करेगा जलबोर्ड

16



नई दिल्ली, 24 जून (आईएएनएस)। दिल्ली जल बोर्ड ने गुरुवार को मुख्य अभियंताओं, वरिष्ठ अधिकारियों और सदस्यों (जल) की एक बैठक बुलाई। इसमें दिल्ली के भीतर उपलब्ध पानी का पाइप और टैंकर द्वारा समान वितरण, निर्वाचन क्षेत्र स्तर पर पानी की कमी और दूषित पानी को लेकर चर्चा हुई।

इसके साथ ही बैठक में विधायक और वार्ड स्तर के साथ-साथ सोशल मीडिया पर प्राप्त शिकायतों को कम करने के लिए एक आपातकालीन रेस्पॉन्स टीम का गठन पर भी चर्चा हुई।

दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने कहा, जनसंख्या और प्रति व्यक्ति उपयोग आदि महत्वपूर्ण मानकों के मॉडल के आधार पर राजधानी में पानी की आपूर्ति का रोड मैप बनाना चाहिए। इसी से अधिकतम उपभोक्ताओं को राहत पहुंचाई जा सकती है। हमें उपलब्ध कच्चे पानी की आपूर्ति के लिए पाइप नेटवर्क या अतिरिक्त टैंकर के माध्यम से समान आपूर्ति का तरीका खोजने की जरूरत है। दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि शिकायतों का बिना किसी देरी के तुरंत निवारण किया जाए।

उन्होंने जल आपूर्ति से जुड़े सदस्यों, सीई, एसई और ईई के प्रभारियों के साथ विस्तार से चर्चा की। सभी 70 निर्वाचन क्षेत्रों में जलापूर्ति प्रबंधन की समीक्षा की और सदस्यों को सख्त निर्देश दिए कि संगठन में किसी भी अधिकारी के किसी भी प्रकार के ढुलमुल रवैये को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। गंदे पानी की शिकायत, पानी की लाइन में लीकेज, कम दबाव वाला पानी, पानी की आपूर्ति नहीं होने, पानी की बबार्दी आदि जैसे मापदंडों पर एक के बाद एक सभी निर्वाचन क्षेत्रों की गहन समीक्षा की गई।

राघव चड्ढा ने कहा, सभी मुख्य अभियंताओं को क्षेत्र के विधायकों के साथ-साथ अपने संबंधित क्षेत्रों का दौरा करने की आवश्यकता है। पानी से जुड़े सभी मुद्दों को हल करने के लिए एक कार्य योजना तैयार करें और उपाध्यक्ष कार्यालय में चल रहे विकास कार्यों के संबंध में साप्ताहिक रिपोर्ट जमा कराएं।

उन्होंने दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों को निर्देश दिया कि निर्वाचन क्षेत्र के हिसाब से नियमित दिल्ली जल बोर्ड को मिले पानी का विश्लेषण किया जाए कि कितना पानी मिला, मांग और आपूर्ति के बीच में कितना अंतर है। जिन क्षेत्रों से गंदे पानी की आपूर्ति, पानी की आपूर्ति नहीं होने, पानी की कम आपूर्ति आदि के संबंध में सबसे अधिक शिकायतें प्राप्त होती हैं, उन शिकायतों को जल्द दूर किया जाए।

इसके अलावा उन्होंने मुख्य अभियंताओं और अधीक्षक अभियंताओं के आपातकालीन रेस्पॉन्स टीम की तैनाती पर भी विशेष जोर दिया। अपने क्षेत्र के विधायकों से मिलने और साइट दौरे के बाद विशेष कार्य योजनाओं का प्लान तैयार करेंगे। इन योजनाओं को सत्यापन और आगे की कार्रवाई के लिए जल सदस्यों को दिया जाएगा। इस योजना के लागू होने से उम्मीद है कि डीजेबी को मिलने वाली शिकायतों की संख्या में कमी आएगी।

उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने मानसून के कुछ दिनों बाद आने और पानी की बढ़ती मांग के कारण पैदा हुई गंभीर स्थिति के बारे में बताया।

उन्होंने दिल्ली जल बोर्ड को सभी आवश्यक प्रयास करने और गंभीर स्थिति से निपटने के लिए निर्वाचन क्षेत्र के हिसाब से योजना तैयार करने की दिशा में काम करने का निर्देश दिया।

–आईएएनएस

जीसीबी/आरजेएस