सर्वदलीय बैठक से पहले शाह ने मोदी से की मुलाकात, जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा पर की चर्चा

16

प्रधानमंत्री ने दोपहर 3 बजे दिल्ली में अपने आवास पर होने वाली सर्वदलीय बैठक के लिए जम्मू-कश्मीर के मुख्यधारा के राजनीतिक दलों के 14 नेताओं को आमंत्रित किया है।

LK;

सूत्रों ने कहा कि बैठक का कोई आधिकारिक एजेंडा नहीं है और यह एक स्वतंत्र चर्चा होगी। हालांकि, जम्मू-कश्मीर के नेताओं ने संकेत दिया है कि वे अनुच्छेद 370 और पूर्ण राज्य की बहाली के लिए दबाव डालेंगे।

जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के करीब दो साल बाद प्रधानमंत्री नई दिल्ली में घाटी के नेताओं की सर्वदलीय बैठक की अध्यक्षता करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

अनुच्छेद 370 को निरस्त करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद से केंद्र की यह पहली पहल है।

जम्मू-कश्मीर में पांच दलों के समूह पीपुल्स अलायंस फॉर गुप्कर डिक्लेरेशन (पीएजीडी) ने बैठक में भाग लेने की पुष्टि की है और इसके नेता दिल्ली पहुंच गए हैं।

पीएजीडी के घटक पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख महबूबा मुफ्ती बुधवार दोपहर दिल्ली पहुंचीं और जम्मू-कश्मीर हाउस में ठहरी हैं।

नेशनल कांफ्रेंस (एनसी) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला भी बैठक में हिस्सा लेंगे।

इससे पहले, मोदी ने जम्मू-कश्मीर के लोगों को आश्वासन दिया था कि कश्मीर में नया सवेरा हो गया है और पीछे मुड़कर नहीं देखा जाएगा।

–आईएएनएस

एचके/आरजेएस

विज्ञापन