कृषक, पशुपालक, मत्स्यपालकों के जीवन स्तर में सुधार के प्रयास किए जाएंगे : उपमुख्यमंत्री

6


पटना, 4 फरवरी (आईएएनएस)। बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने गुरुवार को कहा कि सरकार प्रत्येक क्षेत्र में लोगों की आजीविका के साधन को मजबूत करने की दिशा में तत्परता से काम कर रही है। उन्होंने भरोसा दिया कि कृषकों, पशुपालकों और मत्स्यपालकों के जीवन स्तर में सुधार के प्रयास किए जाएंगे।

बजट पूर्व गन्ना उद्योग, कम्फेड, जीविका, कृषि एवं पशुपालन से जुड़े पदाधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने कहा कि सरकार कृषि एवं अनुषंगी विभागों के तहत चल रही योजनाओं को सुदृढ़ता के साथ लाभुकों को लाभान्वित करने की दिशा में गंभीर एवं सार्थक प्रयास कर रही है। इससे हमारे किसानों, पशुपालकों, मत्स्यपालकों को आजीविका के बेहतर साधन मुहैया कराने के साथ-साथ उनके जीवन स्तर में गुणात्मक सुधार हो सकेगा।

उन्होंने कहा कि विभागों के पदाधिकारियों एवं विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने विस्तार से अपने संबंधित क्षेत्रों में आवश्यक सुधारों की ओर ध्यान आकर्षित किया है, जिसपर विचार-विमर्श के बाद व्यापक लोकहित में अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि कृषि एवं पशुपालन प्रक्षेत्र के अंतर्गत मक्का उत्पादक, केला उत्पादक, गन्ना उत्पादक, चाय उत्पादक, जूट उत्पादक, जीविका के प्रतिनिधियों द्वारा सब्जी के उत्पादन सहित अन्य क्षेत्रों तथा फूल उद्योग एवं बागवानी, जैविक खेती, कुक्कुट पालन, मत्स्य पालन, बकरी पालन, गौशाला डेयरी के लिए महत्वपूर्ण सुझाव प्राप्त हुए हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार प्रत्येक क्षेत्र में लोगों की आजीविका के साधन को मजबूत करने की दिशा में तत्परता से काम कर रही है।

बैठक में मक्का किसानों ने मक्का का उचित मूल्य प्राप्त होने, धान की खेती करने वाले किसानों द्वारा धान की अधिप्राप्ति अवधि माह नवंबर से ही लागू करने, जैविक खेती से जुड़े किसानों को उनके उत्पादन का बेहतर मूल्य प्रदान करने हेतु आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करने, गन्ना किसानों के हित में गन्ना के मूल्यों में वृद्घि के साथ-साथ चीनी मिलों का क्षमतावद्र्घन करने के सुझाव दिए।

–आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम


यह आर्टिकल LHK MEDIA (LIVEHINDIKHABAR.COM) के के द्वारा पब्लिश किया गया