अब खोले जाएंगे पिछले वर्ष मार्च से बंद जवाहर नवोदय विद्यालय

1


नई दिल्ली, 3 फरवरी (आईएएनएस)। पिछले वर्ष मार्च से बंद जवाहर नवोदय विद्यालय (जेएनवी) अब छात्रों के लिए खोले जाएंगे। शुरूआत में दसवीं और बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए विद्यालय खोले जा रहे हैं। शिक्षा मंत्रालय ने गृह मंत्रालय व स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के आधार पर जवाहर नवोदय विद्यालयों को फिर से खोलने के लिए एसओपी तैयार की है। इस एसओपी के तहत जवाहर नवोदय विद्यालयों को खोले जाने की तैयारी शुरू कर दी गई है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने आधिकारिक जानकारी देते हुए कहा, जेएनवी के स्वच्छताकरण, सामाजिक सुरक्षा के साथ छात्रावास और कक्षा में छात्रों के रहने की व्यवस्था की जा रही है। आपातकालीन स्थितियों को पूरा करने के लिए कोविड प्रबंधन प्रोटोकॉल की तैयारी जैसे एहतियाती उपायों का जवाहर नवोदय विद्यालयों द्वारा पहले ही ध्यान रखा जा रहा है।

शिक्षा मंत्रालय के एसओपी के आधार पर, प्रत्येक स्कूल ने टास्क फोर्स का गठन करके प्रभावी प्रबंधन के लिए राज्य सरकार के एसओपी पर आधारित और जिला प्रशासन के परामर्श से अपना एसओपी भी तैयार किया है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक जेएनवी के उन छात्रों के लिए कक्षाओं का प्रबंधन अच्छी तरह से तैयार है, जिनके पास स्कूल आने के लिए माता-पिता की सहमति उपलब्ध है। अन्य छात्रों के संबंध में, शैक्षणिक नुकसान से बचने के लिए ऑनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगी। चरणबद्ध तरीके से शारीरिक कक्षाओं के लिए बुलाए जाने के संबंध में, राज्य प्रशासन के निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाएगा।

आवासीय विद्यालय होने के नाते, मास्क पहनना, सामाजिक दूरी बनाए रखना, बार-बार हाथ धोना और स्वच्छता को अत्यधिक महत्व दिया जाएगा। तदनुसार, जवाहर नवोदय विद्यालय 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए खुलेंगे, जहां राज्य सरकार ने स्कूल खोलने की अनुमति दी है। छात्रों को आवास और उपकरणों की उपलब्धता के आधार पर अन्य वर्गो के संबंध में शीघ्र ही निर्देश दिए जाएंगे।

जवाहर नवोदय विद्यालय मार्च 2020 में महामारी के प्रकोप के बाद बंद कर दिए गए थे। ऑनलाइन कक्षाओं और ऑनलाइन मूल्यांकन की ई-सामग्री और प्रबंधन के विकास पर शिक्षकों को प्रशिक्षित करने का प्रयास किया गया। सभी जवाहर नवोदय विद्यालयों में ऑनलाइन कक्षाएं दी जा रही हैं। ऑनलाइन मूल्यांकन भी समय-समय पर आयोजित किए जा रहे हैं। ऑनलाइन शिक्षा के लिए उपकरणों के बिना छात्रों को विशेष दूत, माता-पिता अथवा पोस्ट के माध्यम से पाठ्य पुस्तकें, शिक्षण सामग्री जैसे असाइनमेंट, प्रश्न बैंक आदि प्रदान किए गए हैं।

–आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम


यह आर्टिकल LHK MEDIA (LIVEHINDIKHABAR.COM) के के द्वारा पब्लिश किया गया

विज्ञापन
Footer code: