फिजिकल एक्टिविटी ना करने से लोगो में बढ़ रही है बीमारियां

3


लाइव हिंदी खबर (स्वास्थ्य) :- देश में 54% लोग शारीरिक गतिविधियां करने में कोई रुचि नहीं है 10 20 30 से कम लोग मनोरंजन के तौर पर शारीरिक गतिविधियां करते हैं IPL आरती टांके आंकड़ों में खुलासा हुआ है कि दिल्ली स्थित प्राइमस सुपर स्पेशलिस्ट अस्पताल के और और और जॉइंट रिलीफ रिप्लेसमेंट के डॉक्टर सूर्य बान ने इस बारे में बताया आजकल अर्थराइटिस के जोड़ों की बीमारियां उम्र तक सीमित नहीं रहे बल्कि शारीरिक रूप से सामने करना भी इस बीमारी के बोल को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

फिजिकल एक्टिविटी ना करने से लोगो में बढ़ रही है बीमारियां

डॉक्टर सूर्यभान ने बताया जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है तो हमारे शरीर के काम करने की क्षमता धीमी हो जाती है हमारे शरीर की हड्डियों के दोबारा करें और मित्र होने की क्षमता कम हो जाती है हमारे घुटनों के जोड़ में मुलायम मौजूद होते हैं जोड़ों में जगह बनने लगती है और और चीन में विशाल होने लगता है.

जर्मनी की एक यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित स्टडी से सामने आया है कि घुटनों में अर्थराइटिस जिन लोगों ने टोटल नी रिप्लेसमेंट कर आया है उन्होंने सर्जरी कराने के बाद साल भर में खुद को ज्यादा सक्रिय महसूस किया है यहां यह बताना विभाग महत्वपूर्ण है कि नी रिप्लेसमेंट के बाद ज्यादातर मरीज से ज्यादा सक्रिय हुए हैं.


यह आर्टिकल LHK MEDIA (LIVEHINDIKHABAR.COM) के के द्वारा पब्लिश किया गया

विज्ञापन
Footer code: