आखिर जमाती क्या कर रहे थे हरिद्वार और मथुरा में?

211

लाइव हिंदी खबर :- एक बात समझ नहीं आ रही है कि हिन्दुओं के अति महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों हरिद्वार और बनारस में तबलीगी जमात के कार्यकर्ता निजामुद्दीन मरकज से क्यों पहुंचे?उनका इरादा क्या था? यह हरिद्वार और काशी तक ही सीमित नहीं रहा। लगभग सभी महत्वपूर्ण हिन्दू धार्मिक स्थानों पर पहुंच गए। मरकज के जलसे के बाद इन्हें अपने घरों की याद क्यों नहीं आई?उनको किसने कहा वहां जाने को?

 

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले से आई खबरों के अनुसार, वहां पर कुछ इंडोनेशिया के जमात कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पकड़ा है। बड़ा सवाल यह है कि वे दिल्ली में अपने कार्यक्रम की समाप्ति के बाद सहारनपुर में क्या झक मार रहे थे? सहारनपुर दूर नहीं है हरिद्वार से। ये कोई बहुत पुरानी बात नहीं है जब हरिद्वार सहारनपुर जिले का हिस्सा हुआ करता था। क्या ये सब देश को कोरोना वायरस के जाल में फंसाने के इरादे से घूम रहे थे? इन्हें यह तो पता ही था कि ऋषिकेश-हरिद्वार में लाखों की संख्या में भक्त गंगा स्नान के लिए आएंगे। क्या इनके निशाने पर हिन्दुओं के खास धार्मिक स्थल थे? जाहिर है, इन सवालों के जवाब जांच के बाद ही तो मिल सकेंगे।

इनके हरिद्वार और बनारस में पाए जाने से ये संकेत भी लग रहे है कि ये एक तरह से आत्मघाती संक्रामक मानवबम का काम कर रहे थे। क्या ये हिन्दुओं की बड़ी आबादी को कोरोना के वायरस के जाल में फंसा रहे थे। अकेले उत्तर प्रदेश में ही 287 विदेशी पकड़े गए हैं। इनमें से 211 के पासपोर्ट भी सीज कर दिए हैं। लखनऊ में कई विदेशी नागरिकों को पकड़ा गया, जिन्होंने दिल्ली के निजामुद्दीन के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। अब इन्हें 14 दिन क्वोंरनटाइन करवा कर अब जेल भेज दिया गया है। इसी तरह दो संक्रमित तबलीगी तो महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन में ही छिपे हुए थे। यही हाल तमिलनाडु और तेलंगाना के धार्मिक शहरों का भी है।

अब ये बात पूरी दुनिया को पता चल चुकी है कि कोरोना से संक्रमित व्यक्ति बहुत सारे लोगों को वायरस का शिकार बना देता है। इन पकड़े गए तबलीगी जमात के सदस्यों ने न मालूम कितने मासूस लोगों को कोरोना वायरस का शिकार बनाकर मौत के मुंह में धकेल दिया है। दिल्ली में अपने सम्मेलन को खत्म करने के बाद ये सारे देश में गए। जहां भी गए वे कोरोना वायरस का संक्रमण लेकर ही गए। इन्होंने देश के 17 राज्यों में कोरोना के को पहुंचाया। अभी तक देश में कोरोना के कुल रोगियों में इनके द्वारा संक्रमित होने वालों का आंकड़ा तीस फीसदी तक जाता है। सिर्फ तमिलनाडू के एक हजार संक्रमित लोगों में से 900 से ज्यादा तबलीगियों से ही जुड़े हैं। यह केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का आंकड़ा है। अब जरा सोच लें कि इन्होंने देश को कितने बड़े संकट में डाल दिया है। ये तो भला हो दिन-रात मेहनत कर रहे डाक्टरों, नर्सों, पुलिस, सफाई योद्धाओं का जो इन तबलीगियों का जमीन पर मुकाबला कर रहे हैं। वर्ना मानवता के ये दुश्मन अपने मकसद में सफल हो ही जाते।

एक बात तो साफ तौर पर लग रही है कि तबलीगी जमात के लोग उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश को कोरोना के माध्यम से बड़ा नुकसान पहुंचाने की फिराक में थे। इसलिए ही इन राज्यों में और तेलंगाना, आंध्रप्रदेश और तमिलनाडू में इतने सारे तबलीगी कार्यकर्ता घूम रहे थे। कहना न होगा कि अपने को सच्चा मुसलमान कहने वालों के कारण ही इस्लाम की भी बदनामी हुई है। ये लोग देश के बीस करोड़ मुसलमानों का प्रतिनिधित्व तो कदापि नहीं करते। इन्होंने गाजियाबाद के एमएमजी जिला अस्पताल की महिला नर्सों पर थूका भी। लानत है इन पर। अच्छी बात यह है कि इन तबलीगी जमात के लोगों पर सख्ती कर रही है योगी सरकार की पुलिस। मुख्यमंत्री योगी ने सभी ऐसे आरोपियों पर रासुका के तहत कार्रवाई करने के निर्देश देकर एक नजीर रखी है। जिन्होंने पुलिस की अपील की परवाह नहीं की और जिन्हें बाद में पुलिस को खोजकर पकड़ना पड़ा।

देश के अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भी जमातियों पर सख्ती दिखानी चाहिए। यह तो साबित हो गया कि ये देश के कानून को नहीं मानते हैं। ये मानवता के दुश्मन हैं। इन्होंने देश-समाज के साथ जघन्य अपराध किया है। इनका यह कृत्य राष्ट्रद्रोह नहीं तो और क्या है?

कोरोना संकट ने देश को एक बड़ा अवसर भी दिया है कि वह अपने को बदल ले। यहां पर लुंज-पुंज तरीके से शासन न चले। जो भी कानून का उल्लंघन करे उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई हो। अब देखिए कि लॉकडाउन के समय पुलिसकर्मियों पर हमलों के समाचार भी लगातार ही मिल रहे हैं। पंजाब में एक पुलिस अधिकारी का हाथ काट देने के मामले से देश सन्न है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के अपने पैतृक शहर पटियाला में बिना पास के सब्जी मंडी के अंदर जाने से रोकने पर निहंग सिखों ने पुलिसकर्मियों पर तलवारों से हमला कर दिया। इस हमले में एक पुलिसकर्मी का हाथ ही काटकर अलग कर दिया गया। निहंगों ने पुलिसकर्मियों पर हमला किया। ये निहंग हमला करने के बाद एक गुरुद्वारे में छिप गए। गुरुद्वारे से आरोपियों ने कथित तौर पर फायरिंग भी की और पुलिसवालों को वहां से चले जाने के लिए भी कहा। खैर, उन हमलवर निहंगों को पकड़ लिया गया है। तो बात यह है कि चाहे वे निहंग हों या तबलीगी जमात के लोग या फिर भी कोई और। किसी को भी कानून के साथ खिलवाड़ करने की इजाजत न दी जाए।