COVID-19: महाराष्ट्र सरकार सोती रही और हजारो के तादाद में Bandra में भीड़ इकट्ठा होने कैसे दी गई?

68
लाइव हिंदी खबर :-बांद्रा में एक साथ हजारों लोगों के इकट्ठा होने की घटना के बाद सबसे बड़ा मुदा यह है कि आखिर इसके लिए जिम्मेदार कौन है और भीड़ कैसे इकट्ठा हो गई?

कोरोना वायरस के मद्देनजर देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच मुंबई से आज चिंताजनक तस्वीरें सामने आईं. लॉकडाउन के बावजूद मुंबई में बांद्रा रेलवे स्टेशन के पास हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई. बताया जा रहा है कि भीड़ में ज्यादातर प्रवासी मजदूर थे. ये मांग कर रहे थे कि इन्हें वापस अपने घर भेजा जाए. बाद में भीड़ को हटाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करने पड़ा.

इसके लिए जिम्मेदार कौन है?

 

लेकिन सवाल ये है कि इस लाठीचार्ज की नौबत क्यों आ गई, क्या महाराष्ट्र की सरकार और प्रशासन की लापरवाही की वजह से लॉकडाउन के बावजूद इतनी बड़ी संख्या में लोग एक जगह इकट्ठा हो गए? ये घटना इसलिए भी चिंताजनक है कि क्योंकि अगर इस भीड़ में से कुछ लोगों को भी कोरोना वायरस हुआ तो स्थिति कितनी गंभीर हो सकती है? क्या लोगों के लिए खाने-पीने की उचित व्यवस्था की गई? साथ ही सवाल ये भी है कि पुलिस को इस भीड़ के जुटने की जानकारी क्यों नहीं मिल पाई, क्या यह राज्य के इंटेलीजेंस की असफलता नहीं दर्शाती है और इसके लिए जिम्मेदार कौन है?

 

मुख्यमंत्री ने पीएम मोदी के सामने रखा था प्रवासी मजदूरों का मुद्दा- आदित्य ठाकरे

 

वहीं इस मामले पर महाराष्ट्र सरकार में मंत्री आदित्य ठाकरे ने केंद्र सरकार पर निशाना साध दिया. आदित्य ठाकरे ने कहा कि जिस दिन से ट्रेनों को बंद किया गया उसी दिन ये मांग की गई कि 24 घंटे और ट्रेनों को चलाया जाए ताकि ये प्रवासी मजदूर अपने घर जा सकें. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पीएम नरेंद्र मोदी के साथ हुए वीडियो कॉन्फ्रेंस में भी उठाया था और मजदूरों के लिए रोडमैप बनाने का अनुरोध किया था.

 

इसके अलावा राज्य सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने दावा किया कि महाराष्ट्र सरकार लोगों को भोजन दे रही है. उन्होंने कहा कि ये लोग अपने घर जाना चाहते हैं, हम उन्हें समझाएंगे. इन सब के बीच आज रात आठ बजे मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे लोगों को संबोधित करेंगे.

 

मुंबई में अब तक कुल 1549 केस

 

बता दें कि देश में कोविड-19 के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में ही हैं. यहां अब तक कुल 2337 पॉजिटिव के सामने आ चुके हैं. बीएमसी के मुताबिक, अब तक 1549 लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं. यहां अब तक 100 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो चुकी है. अब तक 141 कोरोना पॉजिटिव मरीज इलाज के बाद स्वस्थ्य हो चुके हैं.

LIVE HINDI KHABAR