पूर्व सीबीआई निदेशक आर के राघवन जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल में प्रोफेसर नियुक्त

22



नई दिल्ली, 24 जून (आईएएनएस)। ओ.पी. जिंदल यूनिवर्सिटी (जेजीयू) ने संस्थागत उत्कृष्टता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करते हुए अपने अकादमिक समुदाय में भारत की सबसे प्रतिष्ठित हस्तियों में से एक को अपने यहां लेकर आई है।

आर.के. राघवन जो केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के पूर्व निदेशक, भारत में इंटरपोल के पूर्व प्रमुख और साइप्रस गणराज्य में भारत के पूर्व उच्चायुक्त रह चुके हैं। अब वो आपराधिक न्याय और पुलिसिंग में प्रोफेसर के रूप में जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल में शामिल होंगे।

LK;

राघवन अपने साथ दशकों का समृद्ध अकादमिक अनुभव भी लेकर आए हैं। उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातक और मास्टर इन राजनीति और पब्लिक एडमिनीस्ट्रेशन में पढ़ाई की है।

उन्होंने टेंपल यूनिवर्सिटी, फिलाडेल्फिया, यूएसए से क्रिमिनल जस्टिस में एम.ए. किया है। बाद में वे रटगर्स यूनिवर्सिटी और हार्वर्ड लॉ स्कूल में विजिटिंग लाइब्रेरी फेलो थे।

वह कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी, यूके के अपराध विज्ञान संस्थान के अंतर्राष्ट्रीय सलाहकार बोर्ड के सदस्य भी थे। उनके पास कई प्रकाशन हैं जिनमें पुलिस, कार्मिक और परिप्रेक्ष्य (मनोहर 1989) और पुलिसिंग ए डेमोक्रेसी (मनोहर 1994) शामिल हैं।

राघवन इंडियन मुजाहिदीन कम्प्यूटेशनल एनालिसिस एंड पब्लिक पॉलिसी (स्प्रिंगर 2013) के सह-लेखक भी हैं। उनका सबसे हालिया प्रकाशन उनका संस्मरण द रोड वेल ट्रैवलेड (वेस्टलैंड 2020) है। पुलिसिंग मानकों, पुलिस कदाचार, समाज में हिंसा और अपराध और मृत्युदंड के औचित्य जैसे महत्वपूर्ण सार्वजनिक मुद्दों की एक विस्तृत सीरीज पर समाचार प्रकाशनों में उनका लगातार योगदान रहा है।

राघवन ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) नई दिल्ली के प्रमुख के रूप में कार्य किया है। सीबीआई में उनके कार्यकाल में बोफोर्स घोटाले, प्रियदर्शिनी हत्याकांड और क्रिकेट मैच फिक्सिंग घोटाले सहित बड़ी संख्या में हाई प्रोफाइल मामले देखे गए। भारत में इंटरपोल के प्रमुख के रूप में, राघवन संगठन के कामकाज से निकटता से जुड़े थे, विश्व स्तर पर कई कार्यवाही और सम्मेलनों में भाग लेते थे।

ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के संस्थापक कुलपति सी. राज कुमार ने कहा, हम जेजीयू में डॉ राघवन को लेकर बहुत उत्साहित हैं क्योंकि उनका विशाल अनुभव विश्वविद्यालय में शिक्षण और सीखने की गुणवत्ता और विविधता को समृद्ध करेगा। प्रमुख के रूप में उनका विविध करियर सीबीआई, साइप्रस गणराज्य में भारत के उच्चायुक्त और निजी क्षेत्र में काम करने से वह संस्थान निर्माण और अकादमिक उत्कृष्टता में अपना योगदान दे सकेंगे। यह जेजीयू के छात्रों के लिए उनके समृद्ध अनुभव से सीखने का एक असाधारण अवसर होगा।

संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में पहली रैंक हासिल करने और तमिलनाडु कैडर को आवंटित किए जाने के बाद डॉ राघवन भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के साथ शुरू होने वाले वर्षों के अनुभव को इस भूमिका में लेकर आए। उन्होंने राज्य में कई कार्य भी किए, जिनमें रामनाड जिले में पुलिस अधीक्षक और डीआईजी इंटेलिजेंस के साथ-साथ अपराध शाखा सीआईडी शामिल हैं। उन्हें इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी), गृह मंत्रालय, नई दिल्ली में भी भेजा गया था। उन्होंने पूर्वोत्तर और तमिलनाडु में आईबी इकाइयों में सेवा दी। वह अपने विश्लेषणात्मक और लेखन कौशल का श्रेय आईबी में अपने करियर को देते हैं। तमिलनाडु पुलिस में उनका अंतिम कार्य सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक निदेशालय के प्रमुख के रूप में था। इस पद पर, उन्होंने छह साल तक सेवाएं दी।

भारतीय विश्वविद्यालयों में रैगिंग की समस्या का अध्ययन करने के लिए 2006 में भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा डॉ राघवन को भी चुना गया था। उनके नाम पर बनी समिति ने कई मजबूत सिफारिशें कीं, जिन्हें लगभग सभी विश्वविद्यालयों ने स्वीकार कर लिया। बाद में, उन्होंने बैंक धोखाधड़ी पर भारतीय रिजर्व बैंक की सलाहकार समिति के सदस्य के रूप में कार्य किया।

राघवन का अंतिम कार्य साइप्रस गणराज्य में भारत के उच्चायुक्त के रूप में था। डॉ राघवन ने सरकार से सेवानिवृत्ति के बाद 15 साल निजी क्षेत्र में बिताए। इसमें भारत की अग्रणी आईटी कंपनियों में से एक, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज के साथ कंप्यूटर सुरक्षा और साइबर अपराध के लिए परामर्श सलाहकार के रूप में एक कार्यकाल शामिल है।

–आईएएनएस

एचके/आरजेएस

विज्ञापन