यूपी में तोड़ी गईं सपा नेताओं की अवैध संपत्तियां

15



एटा (उत्तर प्रदेश), 23 जून (आईएएनएस)। अवैध संपत्ति के खिलाफ अभियान जारी रखते हुए एटा जिला प्रशासन और पुलिस ने अब सपा के पूर्व विधायक रामेश्वर सिंह यादव और जिला परिषद के पूर्व अध्यक्ष जोगेंद्र सिंह यादव की संपत्तियों को नष्ट कर दिया है।

सपा नेताओं ने कथित तौर पर एक मार्केट कॉम्प्लेक्स और एक फार्महाउस बनाने के लिए चिलासानी ग्राम सभा की भूमि पर अतिक्रमण किया था।

पूर्व विधायक पिछले 20 साल से अपने परिवार के साथ फार्महाउस में रह रहे थे।

सपा ने हाल ही में जोगेंद्र यादव की पत्नी रेखा को जिला परिषद अध्यक्ष पद के लिए अपना उम्मीदवार घोषित किया था।

अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट विवेक मिश्रा ने कहा, कई शिकायतें प्राप्त करने के बाद, जांच की गई और यह पाया गया कि दोनों ने एक बाजार परिसर और एक फार्महाउस बनाने के लिए सरकारी जमीन पर कब्जा कर लिया था। अवैध संपत्तियों को ध्वस्त कर दिया गया है और प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी।

सपा के अधिवक्ता विंग के जिलाध्यक्ष आकाश यादव ने विध्वंस को गैरकानूनी और राजनीति से प्रेरित करार देते हुए कहा, मामला विचाराधीन है और अदालत ने मालिकों की याचिका पर रोक लगाने का आदेश दिया था। हम जिला प्रशासन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे। एसपी कार्यकर्ता राज्य सरकार की तानाशाही के आगे नहीं झुकेंगे।

पिछले एक हफ्ते में पुलिस ने कथित जमीन हड़पने और अवैध निर्माण के चार अलग-अलग मामलों में प्राथमिकी दर्ज की है।

इस बीच, राज्य सरकार और जिला प्रशासन पर निशाना साधते हुए, राज्यसभा सपा सांसद प्रो. राम गोपाल यादव ने कहा, भाजपा एटा पंचायत चुनाव की कुल 30 सीटों में से केवल दो सीटें जीतने में कामयाब रही। भाजपा सरकार ने अब प्रशासन केसाथ मिलकर पूर्व विधायक के बाजार को ध्वस्त किया और उनके पूरे परिवार के खिलाफ मामले दर्ज किए गए। उनके 20 साल पुराने आवास को भी ध्वस्त कर दिया गया। इसके अलावा, हमें जानकारी है कि पुलिस जोगेंद्र के खिलाफ फर्जी दुष्कर्म का मामला दर्ज करने जा रही है।

सपा के वरिष्ठ नेता ने यह भी आरोप लगाया कि राज्य सरकार ने रेखा यादव का नामांकन रद्द कराने की योजना बनाई थी।

–आईएएनएस

आरएचए/एएनएम