आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस अनुसंधान में नए आयाम जोड़ेंगे : जामिया कुलपति

30

प्रोफेसर अख्तर ने उल्लेख किया कि जलवायु परिवर्तन के खतरों और ग्रीन हाउस गैस मुद्दे को विश्व स्तर पर हल करने की आवश्यकता है। अकादमिक शोधकर्ता इसे प्राप्त करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

LK;

प्रो. फ्रेड ब्लाबजर्ग, फेलो आईईईई, अध्यक्ष आईईईई पावर इलेक्ट्रॉनिक्स सोसाइटी, डेनमार्क के अलबोर्ग विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पैनल के अध्यक्ष थे। प्रो. फ्ऱेड को पवन ऊर्जा विद्युत इलेक्ट्रॉनिक्स में अपने अग्रणी शोध के लिए यूरोपीय पवन ऊर्जा अकादमी द्वारा 2021 का ईएडब्ल्यूई वैज्ञानिक पुरस्कार प्राप्त हैं।

पैनल के सदस्यों में अलबोर्ग यूनिवर्सिटी डेनमार्क के प्रोफेसर, हुआई वांग झेजियान विश्वविद्यालय, चीन के प्रोफेसर योंगहेंग यांग शामिल थे।

प्रोफेसर मुन्ना खान फेलो आसमा यूएसए, आईएसएएम, आईई, आईईटीई इंडिया फेलो, वरिष्ठ सदस्य आईईईई, अध्यक्ष, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग ने विभाग के शोध प्रोफाइल के बारे में जानकारी दी।

पैनलिस्ट ने सोलर पीवी और इसकी भविष्य की चुनौतियों से संबंधित चिंता के कई बिंदुओं पर चर्चा की। बिंदुवार चर्चा भारतीय परि²श्य और विश्व परि²श्य पर आधारित थी। उनमें से कुछ थे, इसे किफायती बनाना, सभी के लिए आसान पहुंच, निगरानी के लिए उन्नत तकनीकों का उपयोग जैसे -एआई, आईओटी, कम्प्यूटेशनल इंटेलिजेंस इत्यादि।

पैनलिस्ट का विचार था कि आने वाले दशकों में इस क्षेत्र में उच्चतम विकास होगा और इसके लिए विश्वसनीयता, गिरावट, लागत प्रभावी रखरखाव, वितरित पीवी संयंत्रों के अनुकूलित प्लेसमेंट आदि जैसी चुनौतियों का समाधान करने के अवसर शोधकर्ताओं लिए मौजूद होंगे। पैनलिस्ट ने उन क्षेत्रों की भी पहचान की, जिनमें अनुसंधान निधि की आवश्यकता है।

यह कार्यक्रम आईईईई-पावर इलेक्ट्रॉनिक्स सोसाइटी दिल्ली चैप्टर, आईईईई पावर इलेक्ट्रॉनिक्स सोसाइटी स्टूडेंट चैप्टर- जेएमआई, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग- जेएमआई द्वारा आईईईई पावर इलेक्ट्रॉनिक्स दिवस यानी 20 जून 2021 को संयुक्त रूप से आयोजित किया गया था।

–आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम

विज्ञापन