क्रिकेट का पालना कहे जाने वाली जगह पर हो रहा डब्ल्यूटीसी का खिताबी मुकाबला

31



साउथम्पटन, 21 जून (आईएएनएस)। भारत और न्यूजीलैंड के बीच आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) का फाइनल मुकाबला एजेस बाउल पर खेला जा रहा है जो हैम्पशायर काउंटी क्रिकेट क्लब का घर है, जिसे 1864 से प्रथम श्रेणी क्लब का दर्जा प्राप्त है और इसने दो बार काउंटी चैंपियनशिप जीती है। हालांकि, इसने रैकिंग के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर नहीं दिए हैं, फिर भी इसे क्रिकेट का पालना का गौरव प्राप्त है।

भारत और न्यूजीलैंड के बीच जहां खिताबी मुकाबला खेला जा रहा है, वहां से 15 मील दूर हैम्बलडन गांव है। 1750 में हैम्बलडन क्रिकेट क्लब की स्थापना हुई थी, जिसे मॉर्डन खेल को विकसित करने के लिए जाना जाता है। इसने बल्ले की चौड़ाई, तीसरा स्टंप्स और गेंदबाजी में गुड लेंग्थ जैसे आधार को बनाया। इससे पहले तक दो स्टंप्स होते थे।

हैम्बलडन की आबादी भले ही 1,000 से कम है, लेकिन क्रिकेट के दीवानों के लिए यह तीर्थस्थल के समान है। बैट एंड बॉल पब क्रिकेट के प्रशंसकों के लिए विशेष आकर्षण का केंद्र है, क्योंकि यहीं पर खेल के नियमों के निर्माण के लिए क्लब की बैठकें होती थीं।

इसके अलावा, एजेस बाउल से इतनी ही दूरी पर स्थित हैम्पशायर है जो इंग्लैंड की प्राचीन राजधानी और किंग अल्फ्रेड द ग्रेट की सीट है, वहां एक प्रसिद्ध पब्लिक स्कूल है जहां टीम इंडिया के पूर्व कप्तान दिवंगत टाइगर पटौदी को 1956 में पढ़ने के लिए भेजा गया था। उनके मास्टर इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ी हुबर्ट डोगार्ट ने उन्हें तुरंत टीम में लिया और उन्हें फाइनल वर्ष में कप्तान नियुक्त किया। पटौदी इस दौरान 1,068 रनों के साथ डगलस जार्डिन के सर्वकालिक रिकॉर्ड को पार करने के लिए विधिवत रूप से आगे बढ़े थे।

पटौदी को निजी तौर पर काफी संतुष्टि मिली थी, क्योंकि जार्डिन ने पटौदी के पिता इफ्तिखार अली खान को सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में अपने टेस्ट डेब्यू पर शतक बनाने के बाद इंग्लैंड की ओर से हटा दिया था। पटौदी सीनियर ने जार्डिन की रणनीति का विरोध किया था।

साउथम्पटन के बाहरी इलाके में स्थित एजेस बाउल को 2001 में खोला गया, जब काउंटी क्लब ने साउथम्पटन से यहां अपना मुख्यालय स्थानांतरित किया। एजेस बाउल को आईसीसी ने कोरोना सिक्योर इंफ्रास्ट्रकचर के कारण डब्ल्यूटीसी फाइनल का वेन्यू चुना था, क्योंकि स्टेडियम कॉम्प्लेक्स में ही होटल की सुविधा भी है। इससे पहले, डब्ल्यूटीसी का फाइनल मुकाबला लंदन के लॉर्ड्स में खेला जाना था।

(आशीष रे क्रिकेट लेखक और ब्रॉडकॉस्टर हैं तथा क्रिकेट वर्ल्ड कप : द इंडियन चैलेंज के लेखक हैं)

–आईएएनएस

एसकेबी/एसजीके