तेलंगाना में कोविड टीकाकरण की बढ़ी रफ्तार

30



हैदराबाद, 8 जून (आईएएनएस)। तेलंगाना में सोमवार को 1.65 लाख से अधिक लोगों को खुराक मिलने के बाद कोविड-19 टीकाकरण ने गति पकड़ ली है।

सोमवार को रात नौ बजे तक कुल 1,66,818 लोगों को टीका लगाया गया। इनमें पहली खुराक लेने वाले 1,54,208 लोग शामिल हैं, जबकि 12,355 लोगों को दूसरी खुराक दी गई।

पहली डोज लेने वालों में सबसे अधिक लाभार्थी (1,28,460) 18-44 वर्ष की आयु के थे। यह पहली बार है कि 18-44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों को एक ही दिन में टीका लेने वालों की संख्या एक लाख को पार कर गई है।

18-44 आयु वर्ग के ज्यादातर लाभार्थियों के लिए विशेष अभियान के तहत कवर किया गया।

स्वास्थ्य अधिकारी ऑटोरिक्शा और टैक्सी चालकों, तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (टीएसआरटीसी) के कर्मचारियों, एलपीजी वितरण कर्मचारियों, उचित मूल्य की दुकान के डीलरों, पेट्रोल पंप कर्मचारियों, रायथू बाजारों में विक्रेताओं, बाजार, किराना दुकानें, शराब की दुकानें, मांसाहारी बाजार, फल, सब्जी और फूल जैसे उच्च जोखिम वाले समूहों को मुफ्त टीके दे रहे हैं।

जन स्वास्थ्य निदेशक डॉ. जी. श्रीनिवास राव के अनुसार, 45 वर्ष और उससे अधिक आयु के 36,676 लोगों को भी सोमवार शाम को टीका लगाया गया। उनमें 24,321 शामिल थे जिन्होंने अपनी पहली खुराक मिली।

टीकाकरण 727 टीकाकरण केंद्रों – 696 सरकारी और 31 निजी केंद्रों पर किया गया। निजी टीकाकरण केंद्रों पर 56,527 लाभार्थियों का टीकाकरण किया गया।

इसके साथ ही राज्य अब तक 54,13,379 लोगों का टीकाकरण कर चुका है। उनमें से 14,48,736 ने अपनी दूसरी खुराक ली है।

लाभार्थियों की सबसे बड़ी संख्या 45 वर्ष और उससे अधिक आयु वर्ग में है। पहली खुराक लेने वाले 18-44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों की संख्या 8,23,875 तक पहुंच गई है।

अब तक 4.38 लाख से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों और 3.53 लाख से अधिक फ्रंटलाइन वर्कर के कर्मचारियों का टीकाकरण किया जा चुका है।

जन स्वास्थ्य निदेशक के अनुसार, राज्य को अब तक 69.36 लाख खुराकें दी जा चुकी हैं।

राज्य में लगभग 2.75 करोड़ लोग वैक्सीन के पात्र हैं। इस प्रकार कुल आवश्यकता 5.5 करोड़ (प्रति व्यक्ति दो खुराक) है। लक्षित लाभार्थियों में से लगभग 20 प्रतिशत को कम से कम पहली खुराक मिली है। लगभग 2.22 करोड़ लोगों को अभी तक पहली खुराक नहीं मिली है।

राज्य सरकार पहले ही कह चुकी है कि उसके पास प्रति दिन 10 लाख खुराक देने की क्षमता है और इस तरह पूरे राज्य को 45 दिनों में कवर किया जा सकता है, लेकिन केंद्र से खराब आपूर्ति ने अभियान प्रभावित हुआ है।

–आईएएनएस

एचके/आरजेएस