पिता के जाने के बाद बस मेरा सपना मेरे साथ रहा : मनन भारद्वाज

103



मुंबई, 28 अप्रैल (आईएएनएस)। मिथुन के साथ मिलकर प्रभास अभिनीत आगामी फिल्म राधे श्याम के लिए गीतों की रचना करने वाले नए जमाने के म्यूजिक कम्पोजर मनन भारद्वाज को इंडस्ट्री में अभी कुछ ही वक्त हुआ है।

मनन ने अरमान मलिक के गाए गीत वहम, सचेत टंडन के गाए गीत कांधे का वो तिल और जुबिन नौटियाल व तुलसी कुमार के गाए गीत पहले प्यार का पहला गम को संगीत दिया है।

मनन आज भले ही सफलता का स्वाद चख रहे हैं, लेकिन अपने संघर्ष के दिनों को उन्होंने आज भी नहीं भुला है। हरियाणा से ताल्लुक रखने वाले मनन ने काफी कम उम्र में ही अपने पिता को खो दिया था, जिसके बाद उन्होंने अपना पूरा ध्यान अपने करियर पर लगा दिया था।

मनन कहते हैं, मैंने 17 साल की उम्र में अपने पिता को खोया है। उस वक्त संगीत के साथ मेरे सफर की बस शुरुआत ही हुई थी। मेरे पिता को मेरे सपने के बारे में पता था और वह हमेशा मुझे सपोर्ट भी करते थे। उनके चले जाने के बाद मेरे पास कोई सपोर्ट सिस्टम नहीं बचा था, सिर्फ मेरा अपना एक सपना ही था। सबसे बड़ी बात तो यह थी कि मैं अपने परिवार का अकेला मर्द था, यानि कि मुझे कई जिम्मेदारियां उठानी थी।

वह आगे कहते हैं, हालांकि मेरे सपने को परिवार के बाकी सदस्यों का भी साथ मिला। उस वक्त पैसे कम थे। मुंबई में पढ़ाई के लिए मैंने लोन लिया और ऑडियो इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की।

मनन ने आगे कहा, मुंबई आने के बाद चीजें काफी अलग लगने लगीं। यहां मैं एक छोटे से कमरे में रहता था। हालांकि मैंने अपना काम ईमानदारी से किया और धैर्य बनाकर रखा और इस तरह से धीरे-धीरे मुझे सफलता मिली।

–आईएएनएस

एएसएन